यूरिया का पर्याप्त भण्डारण : सहकारी समितियों से उठाव करें किसान

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

02 सितम्बर 2020। यूरिया का पर्याप्त भण्डारण : सहकारी समितियों से उठाव करें किसान जिले के सभी किसानों को खाद, बीज एवं कीटनाशक उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए कलेक्टर श्री के.एल. चौहान ने कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया है। उनके द्वारा प्रति सप्ताह खाद, बीज का भण्डारण एवं वितरण तथा फसल की स्थिति की समीक्षा की जा रही है तथा कृषकों की समस्याओं के निराकरण के संबंध में कृषि विभाग के अधिकारियों को आवश्यक मार्गदर्शन दिये जा रहे हैं।

महत्वपूर्ण खबर : अनलॉक 4 की गाइडलाईन रियायतों के साथ

समीक्षा के दौरान कृषि विभाग के उप संचालक श्री एन.के. नागेश ने बताया कि जिले में यूरिया की कमी नहीं है तथा समितियों में पर्याप्त मात्रा में खाद का भण्डारण किया गया है। कृषि विभाग द्वारा खरीफ के पूर्व ही कार्ययोजना बनाकर सभी सहकारी समितियों में पर्याप्त मात्रा में उर्वरक एवं बीज का भण्डारण किया गया है। उन्होंने बताया कि कांकेर जिले में रासायनिक उर्वरक का भण्डारण लक्ष्य 37 हजार टन के विरूद्ध 48 हजार 301 टन का किया गया है। सहकारी समिति कांकेर में 1720 टन, नरहरपुर में 1450 टन, सरोना में 1237 टन, चारामा में 1622 टन, लखनपुरी में 1055 टन, भानुप्रतापपुर में 1638 टन, अंतागढ़ में 1065 टन तथा पखांजूर क्षेत्र में 2022 टन यूरिया का भण्डारण किया गया है, जिसे किसानों को वितरित किया जा रहा है, अभी भी  सहकारी समिति कांकेर में 201 टन, नरहरपुर में 74 टन, सरोना में 54 टन, चारामा में 61 टन, लखनपुरी में 85 टन, भानुप्रतापपुर में 92 टन, अंतागढ़ में 110 टन तथा पखांजूर क्षेत्र में 150 टन यूरिया शेष है।

उप संचालक श्री नागेश ने किसानों को सलाह दी है कि आवश्यकतानुसार परमिट कटवाकर  यूरिया का उठाव कर सकते हैं। उन्होंने कृषि विभाग के मैदानी अमलों को निर्देशित किया है कि किसानों की समस्याओं का निराकरण कर उन्हें उच्च गुणवत्तायुक्त कृषि आदान सामाग्री उपलब्ध कराई जावे। उन्होंने सभी निजी उर्वरक विक्रेताओं को निर्देशित करते हुए कहा कि कोई भी विक्रेता शासन द्वारा निर्धारित दर से अधिक मूल्य पर यूरिया अथवा अन्य रासायनिक उर्वरक का विक्रय न करे। शिकायत पाये जाने पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

  • उत्तर बस्तर कांकेर
व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 + 13 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।