मालवा में सोयाबीन की बोवनी जोरों पर

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

मालवा में सोयाबीन की बोवनी जोरों पर

22 जून 2020, देपालपुर। मालवा में सोयाबीन की बोवनी जोरों पर – देपालपुर और आसपास के गांवों में किसानों ने जल्दबाजी में सोयाबीन की बोवनी कर दी है और अब किसान बारिश का इंतज़ार कर रहे हैं गोकुलपुर में तो सोयाबीन अंकुरित भी हो गई है.ऐसे में यदि बारिश में विलम्ब होता है, तो फसल प्रभावित हो सकती है.

बोवनी में जल्दबाज़ी : बता दें कि देपालपुर और आसपास के गांवों गोकुलपुर, बनेडिया, फरकोदा, काई, चांदर आदि में किसानों ने जल्दबाजी में सोयाबीन की बोवनी कर दी है और अब किसान बारिश की प्रतीक्षा कर रहे हैं, जबकि कृषि विभाग ने 4 इंच बारिश होने पर जून के तीसरे या जुलाई के पहले सप्ताह में बोवनी करने की सलाह दी थी. आज कल किसान बुआई में जल्दबाज़ी करने लगे हैं. पहले किसान पहला पानी गिरने के बाद खेत सुधारता था. अब किसान खेत तैयार करके रखता है. जैसे ही पहली बारिश हुई कि बोवनी कर देता है. मानसून के आने का भी इंतज़ार नहीं करता. एक किसान को बोवनी करते देख अन्य किसान भी यह सोचकर बोवनी करने लग जाते हैं कि बाद में जो सबका होगा, वह अपना भी होगा. फसल कटाई में भी पिछडऩे के डर से बोवनी कर देते हैं.

सोयाबीन की विभिन्न किस्में लगाईं : गोकुलपुर के किसान श्री चरणसिंह जाट ने सोयाबीन की किस्म 9560 बोई है, जो अंकुरित भी हो गई है. दौलताबाद के श्री रोशन धाकड़ ने 13 बीघा में किस्म 9565 बोई है. शाहपुरा के श्री लाखनसिंह गेहलोत और बानियाखेड़ी के श्री राजेंद्र सिंह ने सोयाबीन की किस्म 9560 6124 के अलावा नई किस्में जे.एस.20, 116, पूसा एनआरसी 109, 1569 और राजसोया प्रज्ञा 18 भी लगाई है . के श्री संदीप हरिराम नकुम ने 9560 और 6124 किस्म लगाई है. जबकि बिरगोदा के श्री कैलाश ठाकुर ने सोयाबीन की चार किस्में 6124 ,2029 ,9560 और 9305 लगाईं हैं. सोयाबीन बोने के 75 घंटे के अंदर खरपतवार नाशक का छिड़काव किया गया.

बिरगोदा प्रक्षेत्र में बोवनी : म.प्र. फार्म एवं विकास निगम प्रक्षेत्र बिरगोदा में भी सोयाबीन की बुआई हो चुकी है. प्रबंधक श्री दिलीप कुमार दुबे ने बताया कि 35 हेक्टेयर में सोयाबीन की बोवनी सम्पन्न हो चुकी है. जिसमें से 5 हे. में जे. एस.-2069 , 5 हे में आरवीएस -2-4 , 12 हे. में जे.एस -9560 और 13 हे. में जे.एस.-9305 किस्म लगाई है.

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × four =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।