राज्य कृषि समाचार (State News)

ग्रीष्मकालीन मूंग फसल का पंजीयन  20 मई से 5 जून तक

Share

25 मई 2024,भोपाल: ग्रीष्मकालीन मूंग फसल का पंजीयन  20 मई से 5 जून तक – किसान कल्याण कृषि विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव द्वारा वर्ष 2024 (विपणन वर्ष 2024-25) में प्राइस सपोर्ट स्कीम अंतर्गत ई-उपार्जन पोर्टल पर ग्रीष्मकालीन फसल मूंग एवं उड़द के पंजीयन की कार्यवाही के संबंध में जारी किए गए दिशा निर्देश अनुसार  पंजीयन कार्य 20 मई से शुरू होकर 5 जून तक आन लाइन पंजीयन किया जा सकेगा।

पंजीयन की व्यवस्था –  फसलों के ई-उपार्जन पोर्टल (www.mpeuparjan.nic.in) पर पंजीयन की व्यवस्था रहेगी।  किसानों को फसल बेचने के लिए स्लॉट चयन की प्रक्रिया रहेगी एवं मूंग एवं उड़द उपार्जन हेतु कृषकों से पंजीयन के समय ही आधार नम्बर से लिंक बैंक खाता नंबर लिया जावेगा एवं शेष प्रक्रिया यथावत रहेगी। किसान पंजीयन की व्यवस्था को सहज और सुगम बनाया गया है। किसान स्वयं के मोबाइल से घर बैठे पंजीयन कर सकेंगे। किसानों को पंजीयन केंद्रों में लाईन लगाकर पंजीयन कराने की समस्या से मुक्ति मिलेगी।

पंजीयन की निःशुल्क / सशुल्क व्यवस्था –  ग्राम पंचायत कार्यालय में जनपद पंचायत कार्यालयों में , तहसील कार्यालयों में स्थापित सुविधा केन्द्र पर, सहकारी समितियों एवं सहकारी विपणन संस्थाओं द्वारा संचालित पंजीयन केन्द्र पर एम.पी. किसान एप पर नि शुल्क पंजीयन होगा।  जबकि  एम.पी. ऑनलाईन कियोस्क पर, कॉमन सर्विस सेन्टर कियोस्क पर, लोक सेवा केन्द्र पर द्वारा निजी व्यक्तियों द्वारा संचालित साइबर कैफे पर. एम. पी. ऑनलाईन कियोस्क, कॉमन सर्विस सेन्टर, लोक सेवा केन्द्र और निजी व्यक्तियों द्वारा संचालित साइबर कैफे पर प्रति पंजीयन हेतु राशि 50 रुपये  शुल्क निर्धारित  किया  गया है । किसान पंजीयन के लिए भूमि संबंधी दस्तावेज एवं किसान के आधार एवं अन्य फोटो पहचान पत्रों का समुचित परीक्षण किया जाएगा। सिकमी, बटाईदार, कोटवार एवं वन पट्टाधारी किसान के पंजीयन की सुविधा केवल सहकारी समिति एवं सहकारी विपणन सहकारी संस्था स्तर पर स्थापित पंजीयन केन्द्रों पर उपलब्ध होगी। उक्त श्रेणी के शत-प्रतिशत किसानों का सत्यापन राजस्व विभाग द्वारा किया जाएगा।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements