राजस्थान का बकरी, ऊंटों के दूध उत्पादन में वर्चस्व

Share

1 जून 2021, बीकानेर। राजस्थान  का बकरी, ऊंटों के दूध उत्पादन में वर्चस्व – विश्व दुग्ध दिवस 01 जून पर वेटरनरी विष्वविद्यालय में “दुग्ध गुणवŸाा एवं सुरक्षा में प्रगति” पर ऑनलाइन कार्यषाला का आयोजन किया गया। वेटरनरी विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा की अध्यक्षता में स्नातकोत्तर पषुचिकित्सा षिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान, जयपुर के सेन्टर ऑफ एक्सीलैंस ऑन मिल्क क्वालिटी एण्ड सेफ्टी द्वारा आयोजित इस कार्यशाला कार्यशाला में विषय विषेषज्ञों ने दुग्ध प्रयोगषाला के एन.ए.बी.एल. अधिस्वीकरण, दूध में प्रति जैविक और खाद्य सुरक्षा, जैविक दूग्ध उत्पादन और राजुवास जीओ पोर्टल के विषयों पर व्याख्यान प्रस्तुत किए।

कार्यशाला के प्रमुख अतिथि कामधेनू विष्वविद्यालय गाँधीनगर के कुलपति प्रो. एन.एच. केलावाला ने कहा कि भारत विष्व में सर्वाधिक दुग्ध उत्पादन देष है, जहां प्रति व्यक्ति दूध की उपलब्धता 390 ग्राम प्रति दिन है। डेयरी सेक्टर ग्रामीण अर्थव्यवस्था और रोजगार का एक प्रमुख जरिया है। भारतीय डेयरी उद्योग 365 दिन उत्पादन देने वाला हैं। देष में दूध उत्पादक पषुओं की नस्ल विकास, प्रोजीनी और कृत्रिम गर्भाधान और आनुवांषिकी विकास कार्यों को प्रमुखता से लागू करने की जरूरत है। पषुपालकों की आय बढ़ाने के लिए पैकेज ऑफ प्रैक्टिस, चारे के समर्थन मूल्य और चारा बैंक की स्थापना की जानी चाहिए। प्रो. केलावाला ने राजुवास और कामधेनू विष्वविद्यालय के आपसी सहयोग की आवष्यकता जताई।

कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए वेटरनरी विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने कहा कि इस वर्ष विष्व दुग्ध दिवस की थीम रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाने, पोषण और सामाजिक अर्थव्यवस्था के साथ टिकाऊ डेयरी सेक्टर को विकसित करना है। राजस्थान प्रदेष डेयरी दुग्ध उत्पादन में एक ब्रांड बन गया है। राज्य का दुग्ध उत्पादन में देष में दूसरा स्थान है जहां 53 प्रतिषत भैसों से 37 प्रतिषत गायों और 8.9 प्रतिषत बकरियों से दूध प्राप्त होता है। प्रो. शर्मा ने बताया कि बकरी और ऊंटों के दूध उत्पादन में प्रदेष का एकाधिकार है। जैविक दूध उत्पादन, मूल्य संवर्धन व दुग्ध प्रसंस्करण के कार्यों को अपना कर पषुपालक की आय में बढ़ोतरी की जा सकती है। विष्वविद्यालय ने डेयरी साईंस और खाद्य तकनीक ंसंकाय को प्रारंभ कर इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण कदम उठाये है और शीघ्र ही बीकानेर और बस्सी में दो डेयरी साईंस कॉलेज शुरू किये जायेंगे।

कार्यशाला कार्यशाला की संयोजक और पी.जी.आई.वी.ई.आर. की अधिष्ठाता प्रो. संजीता शर्मा ने कहा कि विष्वविद्यालय की उन्नत दुग्ध जांच प्रयोगषाला को दूध जांच के कार्य के लिए हाल ही में एन.ए.बी.एल. से अधिस्वीकरण हो गया है। इससे यह प्रयोगषाला उन्नत उपकरणों ओर जांच प्रक्रिया से विष्व स्तरीय मापदण्डों पर खरी उतरी है। उन्होंने कहा कि दूध की गुणवŸाा और खाद्य सुरक्षा के लिए यह प्रयोगषाला एक मील का पत्थर है। उन्होंने दुग्ध की वैज्ञानिक जांच पड़ताल की संपूर्ण प्रक्रिया और ए-2 ए-1 दूध के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि भारत की डेयरी गौवंष का दूध ए-2 श्रेणी का सर्वाधिक पौष्टिक और सुरक्षित दूध माना गया है।

कार्यशाला में डॉ. विकास गालव (जयपुर) ने उन्नत दुग्ध जांच प्रयोगशाला के एन.ए.बी.एल. से अधिस्वीकरण की पूरी प्रक्रिया से अवगत करवाया। डॉ. अभिषेक गौरव (नवानियां, उदयपुर) ने खाद्य सुरक्षा के लिए दूध में प्रतिजैविकी अवषेष के विषय पर, डॉ. तारा बोथरा (बीकानेर) ने राजुवास जीओ पोर्टल और डॉ. विजय कुमार बिष्नोई ने जैविक दूध उत्पादन पर अपने व्याख्यान प्रस्तुत किए। कार्यषाला के प्रारंभ में वेटरनरी कॉलेज के अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह ने सभी का स्वागत किया। प्रसार षिक्षा निदेषक प्रो. आर.के. धूड़िया ने सभी का आभार जताया। कार्यषाला की सहसंयोजक डॉ. बरखा गुप्ता (जयपुर) ने कार्यषाला का संचालन किया। राजुवास के आई.यू.एम.एस. के प्रभारी डॉ. अषोक डांगी ने ऑनलाइन प्रसारण किया। कार्यषाला में विष्वविद्यालय के डीन-डॉयरेक्टस, फैकल्टी सदस्य, विद्यार्थियों, प्रगतिषील किसान और पषुपालकों सहित देष-विदेष के पषुचिकित्सा विषेषज्ञों ने ऑनलाइन शिरकत की।

 

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.