आरएईओ कृषि विकास अधिकारी से पहचाने जाएंगे : श्री पटेल

Share

संघ का प्रादेशिक अधिवेशन संपन्न

8 मार्च 2021, होशंगाबाद आरएईओ कृषि विकास अधिकारी से पहचाने जाएंगे : श्री पटेल –  ग्राम सेवक से ग्रामों में आज भी पहचान रखने वाले ग्रामीण कृषि विकास अधिकारी अब कृषि विकास अधिकारी के नाम से पहचाने जाएंगे। पवारखेड़ा स्थित कृषि विभाग के प्रशिक्षण केंद्र में मप्र ग्रा. कृ.वि.अधि. संघ की प्रादेशिक बैठक एवं अधिवेशन में कृषि मंत्री श्री कमल पटेल ने पदनाम कृषि विकास अधिकारी रखने का आश्वासन दिया। अधिवेशन में मप्र के लगभग 250 पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया। पदनाम के अलावा अतिरिक्त भत्ता, सर्वेयर के समान वेतनमान, पदोन्नति आदि मांगों को कृषि मंत्री के समक्ष रखा है। मप्र ग्रा. कृ.वि.अधि. संघ का गठन 1986 में हुआ था। तब मप्र में 12000 ग्रा.कृ.वि.अधि. थे। आज प्रदेश में 3800 पदों पर ही तैनात है।

सरकार के 2022 में किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को पूरा करने में अधिकारियों का महत्वपूर्ण योगदान होगा। वर्तमान में एक अधिकारी चार केंद्रों के साथ 75 से 80 ग्रामों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। उदाहरण स्वरूप डिंडोरी जिले में 26, आगर मालवा में 14, धार जिले में 112 कार्यरत हैं जबकि धार में 250 पद स्वीकृत है। संघ ने प्रदेश के 50 फीसदी विकासखंडों में वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी के पद खाली पड़े हैं इन पदों पर पदोन्नति की मांग रखी है। संघ के प्रदेश अध्यक्ष श्री मनोहर गिरी ने कृषि मंत्री से शीघ्र उनकी मांगों पर विचार करने का निवेदन किया जिस पर मंत्री ने शीघ्र बैठक कर समस्या के समाधान की बात कही।

अधिवेशन में विधानसभा पूर्व अध्यक्ष एवं विधायक श्री सीता शरण शर्मा, विधायक सोहागपुर श्री विजय पाल सिंह, महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती माया नारोलिया, पूर्व विधायक श्री गिरजा शंकर शर्मा, संघ के संरक्षक एवं मुख्यमंत्री के सचिव श्री संतोष शर्मा, जनपद अध्यक्ष श्रीमती संगीता सोलंकी, उप संचालक कृषि श्री जितेंद्र सिंह, संघ उपाध्यक्ष श्री दिलीप उपाध्याय धार, श्री बदन सिंह तोमर जिला अध्यक्ष होशंगाबाद, जबलपुर के श्री रजनीश दुबे, श्री एन.के. उमरे होशंगाबाद,डॉ. संतोष पाटीदार खरगोन सहित प्रदेश भर से आए पदाधिकारी उपस्थित थे।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.