कसरावद के फूडपार्क में प्रोसेस होता मक्का, मटर, गेहूं

Share

09 नवम्बर 2020, खरगोन। कसरावद के फूडपार्क में प्रोसेस होता मक्का, मटर, गेहूं कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने गत सप्ताह  निमरानी स्थित कंपनियों का निरीक्षण किया । निरीक्षण के दौरान उन्होंने केंद्रीय सरकार से प्राप्त अनुदान पर स्थापित इंडस मेगा फूडपार्क, श्री वरद पॉलीफेन प्रालि और गैर अनुदान प्राप्त फार्चुन कंपनी व मॅराल ओवरसीस कंपनी का जायजा लिया। इंडस मेगा फूडपार्क के संचालक नवीन वर्मा ने इकाई का निरीक्षण करवाते हुए यहां उत्पादित ग्रीन पीक और स्वीट कॉर्न की प्रक्रिया विधि व पैकेजिंग की जानकारी दी। संचालक श्री वर्मा ने बताया कि स्वीट कॉर्न के लिए मक्का बड़वानी जिले के अंजड़, तलवाड़ा, सालखेड़ा, खरगोन के बड़वाह, सनावद, महेश्वर और धार के धामनोद व धरमपुरी के किसानों से खरीदा जाता है। वहीं मटर रतलाम के किसानों से खरीदकर यहां प्रोसेस किया जाता है। श्री वर्मा ने बताया कि हमारी यूनिट में 6 हजार टन मक्का और 5 हजार टन मटर की जरूरत होती है। मेगा फूडपार्क के संचालक श्री वर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि यह स्थान कोस्टल एरिया सहित साउथ में भी उत्पादन सप्लाय करने में मदद करता है। महाराष्ट्र जैसे राज्यों के करीब होने और पर्याप्त जल, पानी व बिजली होने से सुविधा होती है। 3 लाख प्रतिवर्ष आटा, मैदा व रवे का उत्पादन फार्चुन के जनरल मैनेजर अमितचंद्र सचान ने अवलोकन कराते हुए बताया कि कसरावद मंडी से गेहूं लिया जाता है। इसके अलावा सीहौर और शुजालपुर जिले से भी उसी क्वालिटी का गेहूं आटा, मैदा व रवा बनाने के लिए खरीदा जाता है। यहां प्रतिवर्ष 3 लाख टन मैदा, आटा व रवा बनता  है। यहां से देश के विभिन्न हिस्सों में मांग अनुसार सप्लाय करने में आसानी होती है।

महत्वपूर्ण खबर : राजस्थान : फसल नुकसान से प्रभावित कृषकों को राहत

कोरोना से बचाव के पूरे उपाय

कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा को  मॅराल ओवरसीस के अध्यक्ष एसएन गोयल और सीनियर जनरल मैनेजर राजकुमार गीते ने कंपनी की प्रोडक्शन यूनिट के  निर्माण कार्यों की तकनीकी जानकारी दी।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.