धड़ल्ले से हो रही नकली बीजों की ऑन लाइन बिक्री

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

22 फरवरी 2021, इंदौरधड़ल्ले से हो रही नकली बीजों की ऑन लाइन बिक्री : इन दिनों नकली खाद, बीज और कीटनाशक बनाने और बेचने के मामले ज़्यादा सामने आ रहे हैं l  इसमें अब ऑन लाइन शिकायतें भी आना शुरू हो गई है l  जिसमें किसानों को बीजों के असली और गुणवत्तायुक्त होने की कोई जानकारी नहीं मिलने से वे धोखे के शिकार हो जाते हैं l

ताज़ा मामला ताइवान पपीता की किस्म 786 रेड लेडी का सामने आया है , जिसके बीज की कमी का फायदा उठाते हुए कतिपय  विक्रेताओं द्वारा पपीता का नकली बीज हूबहू पैकिंग में देश के कुछ राज्यों में ऑन लाइन और ऑफ़ लाइन  भी  बेचा जा रहा है l  ऐसे में किसानों और नर्सरी वालों को सावधान रहने की ज़रूरत है l इस बारे में  संबंधित कम्पनी के प्रतिनिधि  श्री सुनील सोलंकी ने कृषक जगत को बताया कि हमारी कम्पनी के उक्त उत्पाद की गत 6 -7  माह से कमी बनी हुई है l  इसका फायदा उठाते हुए  नकली पपीता बीज के अनधिकृत विक्रेता हूबहू पैकिंग में महाराष्ट्र , छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश के लखनऊ ,बरेली ,राजस्थान के अजमेर और म.प्र. के इंदौर , भोपाल , रतलाम आदि शहरों में  भी अवैध तरीके से ऑन लाइन /ऑफ़ लाइन अधिकृत कीमत से भी कम दाम पर बेच रहे हैं  lजबकि कम्पनी ऑन लाइन व्यवसाय नहीं करती है l  कम कीमत के आकर्षण  और बीज की कमी के कारण जरूरतमंद किसान इन धोखेबाजों के जाल में फंस जाते हैंl ऑन लाइन खरीदे गए बीजों की हकीकत तब सामने आती है , जब फल नहीं लगते हैं l

इस पर कृषक जगत ने प्रतिप्रश्न किया कि म.प्र. में कितने मामले सामने आए और कम्पनी ने इसे रोकने के लिए क्या प्रयास किए तो श्री सोलंकी ने कहा कि म.प्र. में भी यह लोग सक्रिय हो गए हैं ,इसलिए किसानों को सावधान किया जा रहा है l हालाँकि  यूपी और राजस्थान में  कतिपय फर्मों के  विरुद्ध जाहिर सूचना प्रकाशित की गई है l म.प्र.के किसान इस ऑन लाइन धोखाधड़ी के शिकार न बनें इसके लिए किसानों को  जागरूक करने के प्रयास किए जा रहे हैं l किसानों को सलाह है कि बीज अधिकृत विक्रेता से पूरी संतुष्टि के बाद ही खरीदें l दुकानदार से पक्का बिल अवश्य लेवें l

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।