निमाड़ी तीखी मिर्च को मिलेगी नई पहचान – कृषि मंत्री श्री यादव

Share this

दो दिवसीय मिर्च महोत्सव को लेकर समीक्षा बैठक हुई

खरगोन 18 फरवरी 2020 आगामी 29 फरवरी और 1 मार्च को कसरावद में आयोजित होने वाले दो दिवसीय मिर्च महोत्सव को लेकर कृषि मंत्री श्री सचिन यादव ने सोमवार को कसरावद के एनव्हीडीए रेस्ट हाउस में भोपाल संचालनालयए इंदौर व उज्जैन संभाग के अधिकारियों तथा स्थानीय मिर्च व्यापारियों के साथ समीक्षा बैठक की। बैठक में कृषि मंत्री श्री यादव ने कहा कि निमाड़ी तीखी मिर्च की पहचान केवल देश ही नही बल्कि पूरे विश्व मे हो। साथ ही हमारे किसान जिस तरह मिर्च की खेती करते हैए उनकों तकनीकी जानकारी नही होने की स्थिति में मनचाहा उत्पादन नही ले पाते है। इसलिए उनको तकनीकी जानकारी सहित उनके उत्पादित निमाड़ी मिर्च की ब्रांडिंग करना आवश्यक हो गया है। मिर्च महोत्सव में पांच केवीके के स्टॉल के साथ ही ग्वालियर कृषि विश्वविद्यालय के वीसी के आने की भी संभावनाएं है। वहीं कई बड़ी कंपनियां भी इस आयोजन में शिरकत करेगी। बैठक में कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाडए पुलिस अधीक्षक श्री सुनील पांडेयए जिला पंचायत सीईओ श्री डीएस रणदाए कृषि उप संचालक एमएल चौहानए उद्यानिकी उप संचालक केके गिरवाल सहित भोपाल व इंदौर के अधिकारी उपस्थित रहे।

मिर्च महोत्सव के साथ – साथ पर्यटन को भी बढ़ावा दिया जाएगा

समीक्षा बैठक में कृषि मंत्री श्री यादव ने सभी अधिकारियों से कहा की यह आयोजन मिर्च को लेकर हैए लेकिन इससे पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। इस आयोजन में 120 से अधिक स्टॉल लगाए जाएंगे। जहां विभिन्न कंपनियों के लाइव डेमों भी दिखाएंगे। साथ ही निमाड़ी कवि सम्मेलनए निमाड़ी व्यंजनए गणगौर और भगोरिया नृत्य की भी प्रस्तुतियां दी जाएगी। बैठक में विभिन्न संस्थाओं और विश्वविद्यालय से आने वाले वैज्ञानिकों की ठहरने की व्यवस्था पर भी चर्चा की गई। तकनीकी सत्र में निमाड़ में मिर्च की संभावनाएं तथा यहां मिर्च पर होने वाले वायरस अटैक से निजात पाने लिए विशेष फोकस होगा। बैठक के पश्चात कृषि मंत्री श्री यादव ने मंडी में आयोजित होने वाले मिर्च की तैयारियों को लेकर अवलोकन भी किया। इस दौरान उन्होंने देखा कहां.कहां पर स्टॉलें लगाई जाएगी। साथ ही संबंधित अधिकारियों को निर्देश भी दिए।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।