आईएआरआई झारखंड के नए प्रशासनिक और शैक्षणिक भवन का नामकरण

Share this

आईएआरआई झारखंड के नए प्रशासनिक और शैक्षणिक भवन का नामकरण

11 जुलाई 2020, नई दिल्ली। आईएआरआई झारखंड के नए प्रशासनिक और शैक्षणिक भवन का नामकरण – केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए प्रतिबद्ध है और विभिन्न योजनाओं तथा कार्यक्रमों के माध्यम से इस दिशा में कई कदम भी उठाए गए हैं। वह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से झारखंड के हजारीबाग में बरही के निकट गोरिया कर्मा में भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईएआरआई) के नवनिर्मित अतिथि गृह के शुभारम्भ के अवसर पर बोल रहे थे। स्वर्गीय डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जन्म दिवस के अवसर पर इस संस्थान के नए प्रशासनिक और शैक्षणिक भवन का नामकरण उनके नाम पर किया गया।

केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने कहा कि बजट, 2020-21 में 16 सूत्रीय कार्य योजना की घोषणा की गई थी और नए कानूनी प्रावधानों से किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को हासिल करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कृषि बाजारों को उदार बनाने, खेती को अधिक प्रतिस्पर्धी बनाने, कृषि आधारित गतिविधियों को सहायता प्रदान करने, टिकाऊ फसल पद्धति व ज्यादा से ज्यादा नई तकनीक अपनाने की जरूरत पर जोर दिया। केन्द्रीय मंत्री ने बताया कि सरकार ने वर्ष 2020-21 के बजट में कृषि गतिविधियों, सिंचाई व ग्रामीण विकास के लिए 2.83 लाख करोड़ रुपये का आवंटन किया गया, जो अभी तक किया गया सबसे ज्यादा आवंटन है। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कई घोषणाएं की हैं, जिनमें कृषि क्षेत्र के लिए एक लाख करोड़ रुपये का इंफ्रास्ट्रक्चर कोष शामिल है। मत्स्य पालन, पशुपालन, हर्बल कृषि, मधुमक्खी पालन आदि के लिए भी करोड़ों रुपये के पैकेज का ऐलान किया गया है, जिनके माध्यम से खेती-किसानी से जुड़े सभी वर्गों की तरक्की सुनिश्चित होगी। इन सब उपायों से कृषि और

इस अवसर पर कृषि राज्य मंत्री श्री पुरुषोत्तम रूपाला और श्री कैलाश चौधरी, आईसीएआर के महानिदेशक डॉ. त्रिलोचन महापात्रा, आईएआरआई के निदेशक डॉ. ए. के. सिंह और अन्य अधिकारी, वैज्ञानिक तथा किसानों ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से भागीदारी की।

Share this
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 + four =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।