फूल मंडी में कमीशन काटे जाने के मामले में बेनतीजा रही बैठक

Share

23 नवम्बर 2022, इंदौर: फूल मंडी में कमीशन काटे जाने के मामले में बेनतीजा रही बैठक – चोइथराम फूल मंडी इंदौर में किसानों की उपज पर 10% कमीशन काटे जाने के विवाद को लेकर मंगलवार को मंडी सचिव द्वारा किसानों, व्यापारियों और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों की त्रिपक्षीय बैठक बुलाई गई थी।  करीब 2 घंटे चली बैठक में कोई निर्णय नहीं निकल पाया। अगली बैठक फिर बुलाए जाने का निर्णय लिया गया।

इस संबंध में भारतीय  मजदूर किसान सेना के प्रादेशिक अध्यक्ष  श्री बबलू जाधव ने कृषक जगत को बताया कि चोइथराम  फूल मंडी इंदौर में किसानों से 10% कमीशन काटे जाने के विवाद को लेकर मंगलवार को मंडी सचिव श्री नरेश परमार ने बैठक बुलाई थी। बैठक में किसान और व्यापारी संगठन के प्रतिनिधि शामिल हुए। किसान प्रतिनिधि के रूप में  श्री रामस्वरूप मंत्री, श्री बबलू जाधव,श्री शैलेंद्र पटेल ,श्री लाखनसिंह डाबी  ,श्री सोहन यादव आदि उपस्थित थे। किसान प्रतिनिधियों ने जोर देकर कहा कि एक तरफ 10% कमीशन काटा जा रहा है, दूसरी ओर उन्हें अपने आधे से ज्यादा फूल फेंकना पड़ रहे हैं। इसका कोई न कोई निर्णय निकाला जाना चाहिए। इनके द्वारा  मंडी अधिनियम का पालन कराए जाने की मांग की गई।

दूसरी ओर  व्यापारी संगठन की ओर से  श्री अशोक वर्मा,श्री अयूब अहमद , श्री चेतन, श्री सुरेश शर्मा आदि प्रतिनिधि के रूप में शामिल हुए। व्यापारी प्रतिनिधियों ने  इंदौर मंडी में किसानों को सबसे अधिक लाभ होने की बात कही ,लेकिन वे इस इस बात की जिम्मेदारी लेने से मुकर गए किसानों का जो माल फेंका जाता है उसका पैसा कौन देगा ? बैठक में मंडी सचिव श्री नरेश परमार ने कहा कि यह मामला बड़ा पेचीदा है। मंडी समिति चाहती है कि व्यापारी किसान और किसान संगठनों की सहमति से कोई निर्णय लिया जाए, जिससे मंडी की छवि खराब ना हो।  इस संबंध में कुछ समय बाद फिर बैठक होगी जिसमें व्यवस्था  सुधारने के संबंध में सभी की सहमति से निर्णय लिया जाएगा।

महत्वपूर्ण खबर: कपास मंडी रेट (19 नवम्बर 2022 के अनुसार)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *