कुरुक्षेत्र के गुरुकुल में प्राकृतिक खेती का मॉडल देखने पहुंचे गुजरात के मुख्यमंत्री

Share

19 सितम्बर 2022, चंडीगढ़: कुरुक्षेत्र के गुरुकुल में प्राकृतिक खेती का मॉडल देखने पहुंचे गुजरात के मुख्यमंत्री – हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कुरुक्षेत्र के गुरुकुल में प्राकृतिक खेती के मॉडल पर गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत और गुजरात के मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल से विस्तार से चर्चा की। उन्होंने प्राकृतिक खेती के मॉडल को जन-जन तक पहुंचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा शोध करने और इसके विस्तार को लेकर बातचीत की। इस दौरान हरियाणा के बिजली मंत्री श्री रणजीत सिंह, कृषि मंत्री श्री जयप्रकाश दलाल और गुजरात के कृषि मंत्री श्री राघव पटेल मौजूद रहे।

गौरतलब है कि गुजरात के मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल विशेष तौर पर प्राकृतिक खेती के मॉडल को जानने के लिए गुरुकुल कुरुक्षेत्र पहुंचे। इसके बाद गुजरात के राज्यपाल, दोनों राज्यों के मुख्य मंत्रियों, हरियाणा के बिजली मंत्री, कृषि मंत्री, हरियाणा सरकार के कृषि विभाग के अधिकारियों और गुजरात के अधिकारियों के साथ प्राकृतिक खेती पर गहन मंथन किया। हरियाणा सरकार प्राकृतिक खेती को बढ़ाने के लिए लागातार प्रयास कर रही है। इस खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकार की तरफ से गाय खरीदने पर 25 हजार रुपये की राशि बतौर सब्सिडी दी जा रही है।     

प्राकृतिक खेती से किसान समृद्ध और खुशहाल होगा – आचार्य देवव्रत

गुजरात के राज्यपाल श्री आचार्य देवव्रत ने कहा कि आज खेती में रसायनिक खाद व कीटनाशक का प्रयोग ज्यादा हो रहा है। इससे जमीन की ऊपजाऊ शक्ति कम हो रही है। आज हमें प्राकृतिक खेती अपनाने की जरुरत है। इससे किसान की लागत भी शून्य हो जाएगी और पानी का संरक्षण होता है।

प्राकृतिक खेती को अपनाकर जन आंदोलन का रूप दिया जाएगा –दलाल

हरियाणा के कृषि मंत्री श्री जेपी दलाल ने कहा कि हरियाणा और गुजरात ने मिलकर प्राकृतिक खेती अपनाने के लिए जो आदान-प्रदान किया है, उसे अभियान के रूप में अपनाकर प्रदेशभर में जन आंदोलन का रूप दिया जाएगा। श्री दलाल ने कहा गुजरात के राज्यपाल ने प्राकृतिक खेती का बीड़ा उठाकर किसानों की आमदनी बढ़ाने का जो लक्ष्य दिया है, हरियाणा सरकार उसे हर संभव तरीके से पूरा करेगी।  

महत्वपूर्ण खबर: मध्य प्रदेश में सब्सिडी पर कृषि यंत्र खरीदने के लिए 19 सितम्बर तक आवेदन दें

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.