राज्य कृषि समाचार (State News)

इजराइल कृषि अध्ययन यात्रा का सुनहरा मौका

Share

9 फरवरी 2023,  इंदौर । इजराइल कृषि अध्ययन यात्रा का सुनहरा मौका – राष्ट्रीय कृषि अखबार ‘कृषक जगत’ द्वारा कृषि अध्ययन यात्रा की अगली कड़ी में इस वर्ष अपने उन्नतशील कृषक सदस्यों /पाठकों को इजराइल यात्रा पर ले जाना तय किया है। इस विदेश यात्रा के लिए अप्रैल माह के अंतिम सप्ताह में इजराइल  के लिए प्रस्थान किया जाएगा।

इजराइल की विदेश यात्रा में रूचि रखने वाले इच्छुक उन्नत किसानों के लिए यह सुनहरा मौका है। ऐसे किसानों को अपने पासपोर्ट के साथ ही अन्य औपचारिकता पूरी करने के लिए पर्याप्त समय है। वे अपने पासपोर्ट बनवा लें। यात्रा व्यय और अन्य  जरूरी जानकारियों की चर्चा समक्ष में की जावेगी। अन्य जानकारी कृषक जगत की वेबसाइट www.krishakjagat.org अथवा कृषक जगत के इंदौर कार्यालय से प्राप्त की जा सकती है ।

इस संबंध में कृषक जगत के संचालक  श्री सचिन बोन्द्रिया ने बताया कि सात दिवसीय इस यात्रा में साथ चलने वाले उन्नत कृषक इजराइल के तेलअबीब शहर में आगामी 2 से 4 तक आयोजित अंतर्राष्ट्रीय कृषि प्रदर्शनी  एग्री टेक में वहां की उन्नत कृषि तकनीक को तो देखेंगे ही, साथ ही उन्हें  तीन दिवसीय प्रक्षेत्र भ्रमण भी कराया जाएगा, ताकि वे कम पानी में उन्नत तकनीक से टमाटर, केला, आम जैसी फसलों के उत्पादन को स्वयं देख सकें और वहां के उन्नत किसानों से व्यक्तिगत चर्चा कर अपने सवालों का जवाब पा सकें। इसके अलावा यात्रा दल को वहां के अन्य दर्शनीय स्थलों पर भी ले जाया जाएगा। ज्ञातव्य है कि इजराइल में अधिकतम 8 से 10  इंच बारिश होती है, इसके बावजूद वहां की रेगिस्तानी ज़मीन पर उन्नत तकनीक से  कम पानी में अधिकतम उत्पादन किया जाता है। इस तकनीक को देख-सीख कर भारत के किसानों द्वारा भी कम पानी में बेहतर फसलोत्पादन किया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि  मध्य प्रदेश के उन्नत  किसानों को कृषक जगत द्वारा 2009  से निरंतर  विदेश यात्रा पर ले जाया जा रहा है। जिसमें  किसानों को 6  बार इजराइल, 2 बार नीदरलैंड, 3 बार चाइना, 1-1  बार टर्की, जर्मनी, जॉर्डन और थाईलैंड की यात्रा पर ले जाया जा चुका है। इस दौरान साथ गए उन्नत किसानों ने वहां की आधुनिक तकनीक को अपने यहाँ अपनाकर फसलोत्पादन में अच्छी वृद्धि की है।  इससे न केवल पानी की बचत हुई है, बल्कि उत्पादन भी गुणवत्तापूर्ण पूर्ण हुआ है। इसका लाभ अधिक कीमत के रूप में मिला है। इजराइल की तकनीक को भारत में कई किसानों द्वारा अपनाया जा रहा है।

महत्वपूर्ण खबर: जीआई टैग मिलने से चिन्नौर धान किसानों को मिल रहा है अधिक दाम

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *