सहकारिता विकास के लिए नए क्षेत्र तलाशें : श्री भार्गव

Share this

भोपाल। सहकारी क्षेत्र को समृद्ध बनाने में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले सेवानिवृत्त अधिकारियों के ज्ञान और प्रशासनिक अनुभव का लाभ लेकर इस क्षेत्र को नयी दिशा दी जाना चाहिये। सहकारिता मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने गत दिवस अपेक्स बेंक सभागृह में मध्यप्रदेश सहकारी विचार मंच के सम्मान समारोह में यह बात कही। श्री भार्गव ने कहा कि देश-प्रदेश की समृद्धि और सामाजिक उत्थान के लिये सहकारिता के विकास के लिये नये क्षेत्र तलाशे जायें और नयी सहकारी संस्थाएँ गठित हों। उन्होंने उदाहरण दिया कि मध्यप्रदेश बीज संघ ने स्थापना के कुछ ही वर्ष में अभूतपूर्व सफलता हासिल की है। श्री भार्गव ने कहा कि सहकारी संस्थाएँ सफलता के लिये समय के साथ बदलाव और आधुनिकीकरण पर भी ध्यान दें। उन्होंने सहकारी आवास संघ, दुग्ध संघ, मार्कफेड जैसे सहकारी संस्थानों को नये क्षेत्रों में आगे बढऩे की जरूरत बतायी।
श्री भार्गव ने मंच द्वारा सहकारी क्षेत्र के विकास की दिशा में सार्थक संवाद आयोजित करने के कार्यों को सराहा। उन्होंने मंच की ओर से पूर्व अपर मुख्य सचिव श्री एन.बी. लोहानी सहित सहकारिता विभाग के सेवानिवृत्त अधिकारियों को सम्मानित किया। सम्मानित होने वाले पूर्व अधिकारियों में पूर्व अपर पंजीयक सहकारिता श्री नेपाल सिंह रावत, पूर्व मुख्य महाप्रबंधक अपेक्स बैंक श्री जगदीश प्रसाद श्रीवास्तव, पूर्व महाप्रबंधक सहकारी विपणन संघ श्री सुरेश कुमार वर्मा, वैज्ञानिक एवं पूर्व गन्ना आयुक्त डॉ. साधुराम शर्मा, पूर्व मुख्य कार्यपालन अधिकारी दुग्ध संघ श्री एस.एस. भाटे, सलाहकार सहकारी बीज संघ श्री सुरेन्द्र स्वरूप भटनागर, पूर्व प्रबंधक इंदौर परस्पर सहकारी बेंक श्री शशिकांत शांताराम गडकरी, पूर्व विकास प्रबंधक मध्यप्रदेश राज्य सहकारी, कृषि और ग्रामीण बैंक श्री जी.पी. नेमा और पूर्व सहायक आयुक्त सहकारिता श्री कैलाशचन्द्र जायसवाल शामिल हैं।
आयुक्त एवं पंजीयक सहकारिता श्री मनीष श्रीवास्तव ने कहा कि व्यावसायिक बैंकों की तरह सहकारी बैंकों का भी सूचना प्रौद्योगिकी से जुडऩा जरूरी है। नाबार्ड के सहयोग से सहकारी बैंकों को कोर-बेंकिंग में लाया गया है। उन्होंने कहा कि वेयर-हाउसिंग, ग्रामीण परिवहन और पर्यटन क्षेत्र को सहकारिता से जोडऩे के प्रयास होंगे। राज्य सहकारी निर्वाचन प्राधिकारी मध्यप्रदेश श्री प्रभात पाराशर भी इस अवसर पर मौजूद थे
इसके पूर्व सहकारी विचार मंच के अध्यक्ष श्री व्ही.जी. धर्माधिकारी ने मंच की गतिविधियों पर प्रकाश डाला। मंच के जरिये सहकारिता क्षेत्र के नवाचारों, प्रयोगों के बारे में सार्थक संवाद का सतत आयोजन होता है। उन्होंने बताया कि मंच द्वारा अगले वर्ष से स्व. श्री दिलीप सिंह भूरिया, स्व. श्री लक्ष्मीनारायण शर्मा और स्व. श्री सुभाष यादव की स्मृति में सम्मान प्रदान किये जायेंगे। कार्यक्रम में श्री एन.बी. लोहानी ने सहकारिता से जुड़े अपने अनुभवों और यादों को साझा किया। स्व. श्री दिलीप भूरिया को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। प्रबंध संचालक अपेक्स बेंक श्री प्रदीप नीखरा ने आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर इफको टोकियो जनरल इंश्योरेंस के वाइस प्रेसीडेंट श्री अरुण मेहरोत्रा, सलाहकार डॉ. एस.पी. शुक्ला आदि उपस्थित थे।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।