कृषि आदान विक्रेताओं के लिये ‘देसी’ डिप्लोमा कोर्स का शुभारंभ

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

विदिशा। राष्ट्रीय कृषि प्रबंधन संस्थान, मैनेज-हैदराबाद के तकनीकी दिशा-निर्देशों द्वारा आत्मा परियोजना के सहयोग से कृषि आदान विक्रेताओं एवं डीलर्स के लिये एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स-डिप्लोमा इन एग्रीकल्चरल एक्सटेंशन सर्विसेज फॉर इनपुट डीलर्स (देसी) हेतु कृषि महाविद्यालय परिसर गंजबासौदा जिला विदिशा में शुभारंभ गत दिनों किया गया। देसी डिप्लोमा कोर्स के बारे में जानकारी देते हुए परियोजना संचालक आत्मा एवं उपसंचालक कृषि जिला विदिशा श्री पी.के. चौकसे ने बताया  कि कृषि आदान से संबंधित सटीक जानकारी कृषकों तक पहुंचाने हेतु कृषि आदान विक्रेताओं की भूमिका को सुनिश्चित किया जा सके। उपसंचालक कृषि द्वारा बताया गया कि पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर पंजीकृत कृषि आदान विक्रेताओं से प्रथम बैच हेतु 40 डीलर्स को स्वीकृत किया गया है। डिप्लोमा कोर्स में कुल 40 दिवसीय क्लासरूम प्रशिक्षण एवं 8 प्रक्षेत्र भ्रमण का प्रावधान रखा गया है।
कार्यक्रम का शुभारंभ बासौदा जनपद पंचायत अध्यक्षा श्रीमती अंजली मनोज यादव एवं कृषि स्थायी समिति बासौदा के अध्यक्ष श्री प्रयाग सिंह रघुवंशी द्वारा किया गया। इस अवसर पर अध्यक्षा श्रीमती अंजली ने बताया कि कृषि आदान विक्रेताओं की भूमिका ज्यादा विश्वसनीय होना चाहिये।
कृषि स्थाई समिति बासौदा के अध्यक्ष श्री प्रयाग सिंह रघुवंशी द्वारा कृषि आदान विक्रेताओं से आह्वान किया गया कि डीलर्स अमानक स्तर के खाद, बीज, उर्वरकों की बिक्री बिल्कुल नहीं करें ताकि कृषकों को गुणवत्तापूर्वक कृषि आदान सामग्री उपलब्ध कराई जा सके और कृषकों की आय में वृद्धि हो सके।
मैनेज हैदराबाद द्वारा विदिशा जिले में देसी डिप्लोमा कराये जाने हेतु आत्मा गवर्निंग बोर्ड विदिशा को नोडल एजेन्सी एवं फेसिलिटेटर के रूप में श्री एस.एस. तोमर को नियुक्त किया गया है। उप परियोजना संचालक आत्मा श्री अरूण प्रताप सिंह कृषि महाविद्यालय गंजबासौदा के वैज्ञानिक डॉ. विनोद गर्ग, डॉ. सतीश शर्मा, डॉ. के.सी. महाजन एवं डॉ. योगेश पटेल द्वारा मार्गदर्शन दिया गया। इस अवसर पर बासौदा के डीलर श्री दीपक कुमार चौरसिया द्वारा देसी डिप्लोमा कोर्स बासौदा में शुभारंभ कराये जाने हेतु मैनेज हैदराबाद, आत्मा परियोजना एवं उपसंचालक कृषि एवं परियोजना संचालक आत्मा श्री पी.के. चौकसे का आभार माना।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen − one =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।