गेहूं की 6 नई प्रजातियों के प्रदर्शन प्लाट का किया अवलोकन

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

इंदौर (22 जनवरी ) : गत दिनों भा.कृ .अ.प.- भारतीय कृषि अनुसन्धान संस्थान,क्षेत्रीय केंद्र इंदौर, कृषि विज्ञान केंद्र ,देवास के कृषि वैज्ञानिकों और सोलिडरिडेड के सदस्यों ने देवास ज़िले के ग्राम डकाच्या और पोलाय जागीर में गेहूं की 6 नई प्रजातियों के  प्रदर्शन प्लाटों का अवलोकन किया l फसल बहुत अच्छी स्थिति में है l कृषि वैज्ञानिकों को 25 -50 % अधिक उत्पादन होने की उम्मीद हैl  

भारतीय कृषि अनुसन्धान संस्थान,क्षेत्रीय केंद्र इंदौर के श्री ए.के.सिंह, वैज्ञानिक (कृषि प्रसार) ने कृषक जगत को बताया कि गेहूं की 6 नई प्रजातियों एच.आई .1605 ,एक.आई.1633 ,एच.आई.1634 (रोटी वाली किस्म ) तथा मालवी गेहूं की एच.आई .8802 ,एचआई .8805 , एच.आई .8737 और एच.आई .8759 के 11 प्रदर्शन प्लाटों का अवलोकन किया गया l  जिसमें कृषि विज्ञान केंद्र ,देवास के वैज्ञानिक डॉ.के.सी .शर्मा ,वरिष्ठ वैज्ञानिक श्री प्रकाश टी.एल.(पौध रोपण ),संस्थान के तकनीकी अधिकारी डॉ .उपेंद्र चौधरी और सोलिडरिडेड के सदस्य शामिल थे l  

  श्री सिंह ने बताया कि गेहूं की इन 6 नई प्रजातियों की बुवाई समक्ष में की गई तथा बाद में संबंधित किसानों के साथ यथा समय बैठक की गई और प्रशिक्षण दिया गया l इन फसलों की निगरानी की जा रही है l गेहूं की इन प्रजातियों को नई तकनीक एफआइआरबी (फरो इरिगेटेड रिज्ड बेड ) से बोया गया है ,जिसमें तीन लाइन के बाद एक नाली रखी गई है l इससे आधे से भी कम पानी लगता है l  फसल बहुत अच्छी स्थिति में है l बालियां आना शुरू हो गई है l उम्मीद है कि 25 -50 % अधिक उपज प्राप्त होगी l वैज्ञानिकों की मौजूदगी में कटाई की जाएगी ,उसके बाद उपज के आंकड़े जारी किए जाएंगे l  इन दोनों गांवों में गेहूं के प्रदर्शन प्लाट के बोर्ड लगे हैं l जो भी किसान इन फसलों को देखना चाहें , अभी देख सकते हैं l  सम्भवतः  डेढ़ माह बाद कटाई शुरू हो जाएगी l

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।