राज्य कृषि समाचार (State News)

लम्पी से गौवंश को बचाने की पूरी तैयारी , रोग नियंत्रण में स्टेकहोल्डर्स विभागों का सहयोग लिया जाएगा -प्रमुख शासन सचिव, पशुपालन विभाग

Share

22 मई 2024, जयपुर: लम्पी से गौवंश को बचाने की पूरी तैयारी , रोग नियंत्रण में स्टेकहोल्डर्स विभागों का सहयोग लिया जाएगा -प्रमुख शासन सचिव, पशुपालन विभाग – जयपुर। प्रदेश में लम्पी स्किन डिज़ीज़ रोग के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए पूर्व तैयारियों तथा स्टेक होल्डर्स विभागों के बीच अन्तर्विभागीय समन्वय स्थापित किए जाने को लेकर गुरुवार को शासन सचिवालय में बैठक का आयोजन किया गया । बैठक की अध्यक्षता पशुपालन विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्री विकास सीताराम भाले ने की । श्री भाले ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि गौवंश में फैलने वाली लम्पी बीमारी एक भया वह बीमारी है। इसका कोई इलाज नहीं है। लेकिन टीका करण से इसका बचाव किया जा सकता है।

श्री भाले ने कहा कि पिछले वर्ष इस बीमारी से राजस्थान में एक भी गौवंश की मृत्यु नहीं हुई थी । पशुपालन विभाग ने इस वर्ष भी अपनी पूरी तैयारी कर ली है। जिलों में टीके भिजवाए जा रहे हैं। इसके साथ ही राज्य एवं जिला स्तर पर नयंत्रण कक्ष स्थापित किए जाएंगे। रोग सर्वेक्षण, निदान, प्रभावित पशुओं के उपचार, टीकाकरण एवं नियंत्रण हेतु प्रसार माध्यमों का उपयोग किया जा गा । पशुपालन विभाग सभी स्टेक होल्डर्स विभागों के साथ नोडल विभाग के रूप में काम करेगा । विभाग द्वारा जल्द ही इस रोग की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु गाईड लाईन जारी कर दी जाएगी I

बैठक में पशुपालन विभाग के निदेशक श्री भवानी सिंह राठौड़ और संयुक्त निदेशक डॉ . तपेश माथुर ने लम्पी रोग और स्टेक होल्डर्स विभागों के बीच समन्वय पर अपनी प्रस्तुति दी । बैठक में पशुपालन विभाग के अतिरिक्त निदेशक डॉ .प्रवीण गुप्ता , गोपालन विभाग की निदेशक डॉ . शालिनी शर्मा , आरसी डी एफ के महा प्रबंधक डॉ . संतोष कुमार शर्मा , वन विभाग, स्वायत्त शासन विभाग, पंचायती राज विभाग, हिंगोहिं गोनिया गौशाला और राजस्थान गौ सेवा संघ के प्रतिनिधियों ने भाग लिया ।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

www.krishakjagat.org

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements