राज्य कृषि समाचार (State News)

छिंदवाड़ा में बीज लाइसेंस निलंबन की कार्यवाही की गई

Share

22 जून 2024, छिंदवाड़ा: छिंदवाड़ा में बीज लाइसेंस निलंबन की कार्यवाही की गई – उप संचालक  कृषि  छिंदवाडा श्री जितेन्द्र कुमार सिंह  ने  जांच दल द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन एवं कृषकों के कथन के आधार पर प्रथम दृष्टया दोषी पाये जाने पर मेसर्स सूर्यवंशी ट्रेडर्स, मोठार विकासखंड परासिया के प्रो. दिनेश  सूर्यवंशी बीज लाइसेंस  तत्काल प्रभाव से आगामी आदेश तक के लिए निलंबित कर दिया है  ।

जाँच दल द्वारा 19 जून 2024 को विकासखण्ड परासिया के ग्राम मोठार के बीज विक्रेता मेसर्स सूर्यवंशी ट्रेडर्स मोठार के प्रतिष्ठान का निरीक्षण किया गया। जिसमें विक्रेता द्वारा सीड एक्ट 1966 के अंतर्गत सीड कन्ट्रोल आर्डर 1983 प्रावधान के अनुसार अतिरिक्त विक्रेता प्रमाण पत्रों के इन्द्राज कराये बिना व्यवसाय करना- नियम 17, स्कंध एवं मूल्य सूची का प्रदर्शन न करना- नियम 8 (ए एवं बी), स्टॉक रजिस्टर का नहीं बनाया जाना व अन्य अभिलेख को नहीं रखना नियम 18 (1), कृषकों को निर्धारित प्रारूप में कैश क्रेडिट मैमो नहीं दिया जाना नियम- 9 एवं निर्धारित प्रपत्र में विक्रय प्रतिवेदन न देना नियम- 18 (2) का स्पष्ट उल्लंघन करते हुए कृषकों को मक्का बीज किस्म डी.के.सी.-9126 विक्रय करना पाया गया । इसलिए  मेसर्स सूर्यवंशी ट्रेडर्स मोठार विकासखंड परासिया के प्रो. दिनेश  सूर्यवंशी के जांच दल द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन एवं कृषकों के कथन के आधार पर प्रथम दृष्टया दोषी पाये जाने पर उप संचालक कृषि  छिंदवाडा श्री सिंह द्वारा  प्रो. दिनेश  सूर्यवंशी का बीज लाइसेंस  तत्काल प्रभाव से आगामी आदेश तक के लिए निलंबित कर दिया गया ।

उल्लेखनीय है कि वाट्सअप के माध्यम से 17 जून 2024 को वायरल वीडियो की जांच के लिये उप संचालक  कृषि  छिंदवाड़ा श्री जितेन्द्र कुमार सिंह के द्वारा 18 जून 2024 को जांच दल का गठन किया गया था । गठित दल में शामिल सहायक संचालक कृषि श्री धीरज ठाकुर, अनुविभागीय कृषि अधिकारी परासिया श्री प्रमोद सिंह उट्टी एवं वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी परासिया श्री विनायक नागदोने शामिल थे।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements