बड़वानी जिले में बुवाई का 87 प्रतिशत लक्ष्य हासिल

Share

16 जुलाई 2022, बड़वानी: बड़वानी जिले में बुवाई का 87 प्रतिशत लक्ष्य हासिल – बड़वानी जिले के किसानों द्वारा खरीफ फसलों की बोनी का कार्य किया जा रहा है । जिले में खरीफ फसल के तहत 2,38 ,830 हेक्टर क्षेत्र में विभिन्न फसलों की बुआई की जाने का लक्ष्य है। जिनमें मुख्य फसल मक्का 67,500 हे० ज्वार 18 ,225 हे0, बाजरा 6 ,875 हे० मूंग 51,200, उड़द 53,153, अरहर 4715 है०. कपास 79 ,715 हे, सोयाबीन 29000 हे एवं मूंगफली 9150 हे एवं अन्य फसलों 128300 में बोनी की जाना प्रस्तावित है। अब तक मक्का 56986 हे, ज्वार 16734 हे. बाजरा 4865 हे मूंग 4158 हे, उड़द 4258 हे, अरहर 2825 हे कमारा 72840 हे, सोयाबीन 27584 हे एवं मूंगफली 8852 हे एवं अन्य फसलों  8641 हे इस प्रकार कुल 207743 हेक्टर बुआई की गई है, जो कि लक्ष्य का लगभग 87 प्रतिशत है ।

उप संचालक कृषि श्री आरएल जामरे ने बताया कि इस वर्ष किसानों का कपास फसल की ओर रूझान अधिक है।किसानों से अनुरोध है कि प्रमाणित बीज खरीदकर ही बोनी करें , यदि प्रमाणित बीज उपलब्ध न हो तो स्वयं के पास उपलब्ध बीज बोने के लिए उपयोग करें। उन्होंने  बताया कि उस बीज को अच्छी तरह से ग्रेडिंग व सफाई कर बीज को बाविस्टीन 3 ग्राम या ट्रायकोडर्मा 5 ग्राम प्रति किलो बीज से उपचारित कर ही बोएं । किसान भाई, प्रमाणित बीज खरीदते समय निजी विक्रेताओं /संस्था से पक्का बीज अवश्य प्राप्त करें । उन्होंने बताया कि किसान भाई अन्तरवर्तीय फसल जैसे सोयाबीन – मक्का, कपास – मक्का, मक्का – मूंग, आदि फसलें  बोयी जावे, साथ ही फसल विविधिकरण अन्तर्गत एक ही खेत में एक से अधिक फसल जैसे ज्वार, बाजरा, सोयाबीन एवं मक्का आदि की बुआई करे, जिससे जोखिम कम होगा। जिन खेतों में जल भराव की स्थिति निर्मित होने की संभावना हो वहाँ जल निकासी की तत्काल व्यवस्था करें ।

महत्वपूर्ण खबर: प्राकृतिक खेती, डिजिटल कृषि, फसल बीमा, एफपीओ पर ध्यान देंगे राज्य: राष्ट्रीय सम्मेलन बेंगलुरु

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.