1018 एफपीओ को 37 करोड़ से ज्यादा का इक्विटी अनुदान जारी

Share

14 जुलाई 2022, बेंगलुरू/नई दिल्ली: 1018 एफपीओ को 37 करोड़ से ज्यादा का इक्विटी अनुदान जारी – कर्नाटक के बेंगलुरु में आज राज्यों के कृषि और बागवानी मंत्रियों के सम्मेलन में  केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राष्ट्रीय कृषि बाजार(ई-नाम) के तहत प्लेटफॉर्म ऑफ प्लेटफॉर्म्स (पीओपी) का शुभारंभ किया। साथ ही, लगभग साढ़े 3 लाख किसानों को लाभान्वित करने के लिए उनके 1018 कृषक उत्पादक संगठनों (एफपीओ) को 37 करोड़ रुपये से अधिक का इक्विटी अनुदान जारी किया। ई-नाम प्लेटफॉर्म ऑफ प्लेटफॉर्म्स ,सेवा प्रदाताओं के मंच का एकीकरण करता है । जिसमें समग्र सेवा प्रदाता  किसानों के हित में अपनी सेवाएं उपलब्ध कराते हैं, जिससे किसानों को लाभ होता है।

श्री तोमर ने 10 हजार एफपीओ के गठन के लिए सीएसएस के तहत 1018 एफपीओ को 37 करोड़ रु. से अधिक का इक्विटी अनुदान जारी किया, जिससे लगभग साढ़े 3 लाख किसान लाभान्वित होंगे। केंद्र सरकार से समान इक्विटी अनुदान द्वारा अनुपूरित निर्माता सदस्यों की इक्विटी से एफपीओ का वित्तीय आधार सुदृढ़ होगा और उन्हें अपनी परियोजनाओं एवं व्यवसाय विकास हेतु कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं के लिए वित्तीय संस्थानों से ऋण लेने में मदद मिलेगी। योजना के तहत एफपीओ को 3 वर्ष की अवधि के लिए प्रति एफपीओ 18 लाख रु.तक की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। इसके अलावा, प्रति एफपीओ 15 लाख रु. की सीमा के साथ एफपीओ के प्रत्येक किसान सदस्य के लिए 2हजार रु. तक के समतुल्य अनुदान व पात्र ऋणदाता संस्थान से प्रति एफपीओ के लिए 2 करोड़ रु. के परियोजना ऋण तक की क्रेडिट गारंटी सुविधा का प्रावधान है ताकि संस्थागत ऋण पहुंच सुनिश्चित हो। इस अवसर पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री श्री बसवराज बोम्मई,केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री डा. मनसुख मांडविया, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री श्री कैलाश चौधरी व सुश्री शोभा करंदलाजे, कर्नाटक के कृषि मंत्री श्री बी.सी. पाटिल, राज्यों के मंत्री, केंद्रीय कृषि सचिव श्री मनोज अहूजा व संयुक्त सचिव सुश्री विजयलक्ष्मी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

उल्लेखनीय है कि पीओपी की शुरूआत होने से किसानों को उपज राज्य की सीमाओं से बाहर बेचने में सुविधा होगी। इससे कई बाजारों, खरीददारों, सेवा प्रदाताओं तक किसानों की डिजिटल रूप से पहुंच बढ़ेगी और मूल्य खोज तंत्र, गुणवत्ता के अनुरूप मूल्य प्राप्ति में सुधार के उद्देश्य से व्यापार लेन-देन में पारदर्शिताआएगी। पीओपी पर विभिन्न मूल्य श्रृंखला सेवाओं जैसे व्यापार, परख, भंडारण, फिनटेक, बाजार की जानकारी, परिवहन आदि की सुविधा देने वाले विभिन्न प्लेटफार्मों के 41 सेवा प्रदाताओं को शामिल किया गया है। पीओपी से डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र तैयार होगा, जिससे कृषि मूल्य श्रृंखला के विभिन्न खंडों में अलग-अलग प्लेटफार्मों की विशेषज्ञता का लाभ मिलेगा। ई-नाम प्लेटफॉर्म ऑफ प्लेटफॉर्म्स के रूप में सेवा प्रदाताओं के मंच का एकीकरण करता है, जिसमें समग्र सेवा प्रदाता ,जो कृषि उपज के व्यापार के लिए समग्र सेवाएं प्रदान करते हैं,जिसमें गुणवत्ता परख, व्यापार, भुगतान प्रणाली और लॉजिस्टिक्स,सफाई, ग्रेडिंग, छंटाई और पैकेजिंग ,भंडारण,कृषि आदान,बीमा सेवा से संबंधित सेवाएं तथा अन्य प्लेटफार्म शामिल हैं। पीओपी तक ई-नाम मोबाइल ऐप के माध्यम से पहुंचा जा सकता है, जिसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। कृषि मंत्री द्वारा विमोचित कॉफी टेबल बुक ; नवाचार और प्रौद्योगिकी के माध्यम से देश में कृषि उत्पादों के व्यापार में पारदर्शिता व दक्षता लाने में ई-नाम के प्रयास और यात्रा को प्रदर्शित करती है।

महत्वपूर्ण खबर: सोयाबीन कृषकों को कृषि विभाग की उपयोगी सलाह

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *