मध्यप्रदेश की योजनाएं सकारात्मक बदलाव ला रही : श्री मोदी

Share

प्रधानमंत्री श्री मोदी से नई दिल्ली में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की भेंट

25 अप्रैल 2022, नई दिल्ली/भोपाल ।  मध्यप्रदेश की योजनाएं सकारात्मक बदलाव ला रही : श्री मोदी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहन ने गत दिनों मुलाकात की और मध्य प्रदेश सरकार की सुशासन संबंधी पहलों पर बात की और जाना की कैसे मध्य प्रदेश सरकार की परिवर्तनकारी योजनाएं लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव ला रही हैं। श्री चौहान ने प्रधानमंत्री को प्रदेश के विकास और जन-कल्याण से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर जानकारी दी और मार्गदर्शन प्राप्त किया। प्रधानमंत्री को मुख्यमंत्री ने उज्जैन के महाकाल महाराज क्षेत्र विस्तार योजना के लोकार्पण का निमंत्रण भी दिया, जिसे प्रधानमंत्री ने सहर्ष स्वीकार किया। श्री चौहान ने श्री मोदी से मई माह में मध्यप्रदेश स्टार्टअप नीति के वर्चुअल शुभारंभ का अनुरोध भी किया।

20 लाख टन गेहूं निर्यात की संभावना

प्रधानमंत्री को श्री चौहान ने प्रदेश के विश्व विख्यात शरबती और ड्यूरम गेहूं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अब तक प्रदेश का 2 लाख 40 हजार टन गेहूं निर्यात हो चुका है। अभी 20 लाख मीट्रिक टन गेहूं के निर्यात की और संभावना है। मिस्र के प्रतिनिधिमंडल ने मध्यप्रदेश के गेहूं के आयात की इच्छा व्यक्त की है। मुख्यमंत्री ने निर्यात नीति में प्रदेश द्वारा निर्यातकों को दी जा रही सुविधाओं के बारे में भी जानकारी दी।

म.प्र. में कृषि विविधीकरण

कृषि विविधीकरण नीति के बारे में अवगत कराते हुए श्री चौहान ने प्रधानमंत्री को बताया कि प्रदेश में तिलहन और नगदी फसलों को बढ़ावा दिया जा रहा है, जिससे खाद्य तेल के आयात में कमी कर विदेशी मुद्रा बचायी जा सके। श्री चौहान ने प्रदेश की इथेनॉल नीति की प्रगति पर चर्चा करते हुए बताया कि अब तक 50 करोड़ लीटर इथेनॉल उत्पादन के स्वीकृति-पत्र जारी किये जा चुके हैं।

कृषि यंत्र ई-व्हाउचर से

पीएम को श्री चौहान ने ई-व्हाउचर की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कृषि विभाग में उपकरण क्रय और शिक्षा विभाग में साइकिल क्रय के लिये ई-व्हाउचर जारी किये जायेंगे।

 

महत्वपूर्ण खबर: रोज़गार छीनना नहीं, रोज़गार देना है हमारी सरकार का मकसद : मुख्यमंत्री

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.