कश्मीरी किसानों को मिल रहा केसर का दोगुना दाम

Share

10 सितम्बर 2021, नई दिल्ली । कश्मीरी किसानों को मिल रहा केसर का दोगुना दाम केंद्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर कश्मीर प्रवास के दौरान आज पुलवामा के पम्मोर स्थित भारत अंतर्राष्ट्रीय कश्मीर केसर व्यापार केंद्र (IIKSTC) गए, जहां वे केसर उत्पादक किसानों से रूबरू हुए ।  केंद्र सरकार ने 400 करोड़ रूपए के राष्ट्रीय केसर मिशन के अंतर्गत कश्मीर को अभी तक 266 करोड़ रूपए से ज्यादा राशि प्रदान की है, वहीं इस केंद्र-विशेष के लिए 38 करोड़ रूपए से ज्यादा दिए गए है। कार्यक्रम में श्री तोमर ने कहा कि जम्मू और कश्मीर भारत का ताज है और राज्य में कृषि क्षेत्र के विकास के लिए केंद्र द्वारा पैसों की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

जम्मू-कश्मीर के लिए भारत सरकार के सार्वजनिक आउटरीच कार्यक्रम के एक भाग के रूप में पहुंचे केंद्रीय मंत्री श्री तोमर, राज्य मंत्री श्री कैलाश चौधरी व सुश्री शोभा करंदलाजेतथा संसद सदस्यों ने अंतर्राष्ट्रीय कश्मीर केसर व्यापार केंद्रमें ड्रायिंग सेक्शन, स्टिग्मा सेप्रेशन, कोल्ड स्टोरेज,हाई-टेक क्वालिटी कंट्रोल लैब, पैकेजिंग सेक्शन और ई-ऑक्शन सेंटरसहित अन्य आधुनिक सुविधाओं का जायजा लिया।कश्मीर के निदेशक (कृषि) चौधरी मोहम्मद इकबाल व विशेषज्ञों ने उन्हें IIKSTC के कामकाज की जानकारी दी। निदेशक ने बताया कि जियो टैगिंग सुविधा ने विपणन मूल्य के साथ-साथ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय विपणन मंच पर केसर की पहुंच में वृद्धि की है। IIKSTC में किसानों को ई-नीलामी सुविधा प्रदान की जाती है, जो उन्हें उनकी उपज के लिए एक बहुआयामी विपणन सुविधा सुनिश्चित करती है। इससे किसान एक बहुस्तरीय विपणन प्रणाली में शामिल होते हैं, जहां उन्हें अपनी उपज का अधिकतम लाभ मिलता है।

बाद में मंत्रियों व सांसदों के दल के साथ केसर उत्पादकों, प्रगतिशील किसानों वहितधारकों का संवाद-सत्र आयोजित किया गया। इस दौरान किसानों ने कहा कि पहले उन्हें केसर के लगभग एक लाख रूपए प्रति किलो के भाव ही मिल पाते थे लेकिन प्रोसेसिंग, ग्रेडिंग व अन्य सुविधाएं विकसित होने से उन्हें उनकी केसर की दोगुनी से ज्यादा कीमत मिल पा रही है और केसर की क्वालिटी बेहतर होने के कारण निर्यात के भी बेहतर अवसर उपलब्ध हुए हैं तथा अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भारतीय केसर की पहचान बनेगी। अब उत्पादकता बढ़ रही है और अच्छी पैकेजिंग व सही क्वालिटी होने से उपभोक्ताओं को भी इसका लाभ मिल पाएगा, वरना पहले कई बार कश्मीरी केसर के नाम पर मिलावटी केसर की भी बिक्री होती थी। कार्यक्रम में उपराज्यपाल के सलाहकार श्री फारूक खान, केंद्रीय कृषि सचिव श्री संजय अग्रवाल, अतिरिक्त सचिव श्री विवेक अग्रवाल, संसदीय मामलों के केंद्रीय अतिरिक्त सचिव श्री सत्य प्रकाश, नेफेड के प्रबंध निदेशक श्री संजीव कुमार चड्ढा, केंद्रीय संयुक्त सचिव (बागवानी) श्री राजबीर सिंह, कश्मीर के महानिदेशक (बागवानी)श्री एजाज अहमद भट भी उपस्थित थे।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.