राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

भारतीय किसानों को भविष्य में 13 जीएम फसलें मिल सकती हैं

Share

31 दिसम्बर 2022, नई दिल्ली: भारतीय किसानों को भविष्य में 13 जीएम फसलें मिल सकती हैं – भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) और इसके अधीन इसके विश्वविद्यालय 2006 से “कार्यात्मक जीनोमिक्स और जीनोम संशोधन पर नेटवर्क परियोजना” के तहत GM फसलों के विकास पर काम कर रहे हैं।

ICAR जैविक और अजैविक तनाव सहिष्णुता, उपज और गुणवत्ता सुधार जैसे विभिन्न लक्षणों को विकसित करने की कोशिश कर रहा है। जिन 13 फसलों को प्राथमिकता दी गई है, वे हैं कपास, पपीता, बैंगन, केला, चना, अरहर, आलू, ज्वार, ब्रासिका, चावल, अलसी, गेहूं और गन्ना।

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है आवश्यक गुणवत्ता लक्षणों वाली जीएम फसलें अभी विभिन्न चरणों में हैं। अभी तक, भाकृअनुप-केंद्रीय आलू अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा लेट -ब्लाइट प्रतिरोधी आलू विकसित किया गया है; अरहर में फली छेदक कीट प्रतिरोध आईसीएआर-नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर प्लांट बायोटेक्नोलॉजी, नई दिल्ली द्वारा विकसित किया गया है; आईसीएआर-इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पल्स रिसर्च, कानपुर और आयरन द्वारा कीट-प्रतिरोधी चना विकसित किया गया है एवं आयरन और प्रो-विटामिन समृद्ध केला आईसीएआर-नेशनल रिसर्च सेंटर ऑन बनाना, तिरचुरापल्ली, द्वारा विकसित किया गया है।

इसके अलावा, पहले की परियोजनाओं से प्राप्त जानकारी को आगे बढ़ाने के लिए, आईसीएआर ने बायोटेक फसलों पर अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना पर एक नेटवर्क परियोजना शुरू की है। 24.75 करोड़ रुपये की  यह परियोजना 2021-26 की अवधि तक  के लिए है।

महत्वपूर्ण खबर: कपास मंडी रेट (28 दिसम्बर 2022 के अनुसार)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *