राष्ट्रीय कृषि समाचार (National Agriculture News)

किसानों के लिए खुशखबरी : देश में सामान्य रहेगा मानसून

Share

इस वर्ष औसत 96 से 104 प्रतिशत बारिश का अनुमान

28 मई 2023, नई दिल्ली (कृषक जगत) । किसानों के लिए खुशखबरी : देश में सामान्य रहेगा मानसून – भारतीय मौसम विभाग ने गत दिनों अपना दूसरा पूर्वानुमान जारी करते हुए कहा कि इस वर्ष मानसून सामान्य रहेगा। साथ ही पश्चिमोत्तर भारत में कुछ कमी हो सकती है। 19 मई को अंडमान-निकोबार द्वीप में मानसून की दस्तक हो चुकी है, जिसके बाद अब जल्द ही देशभर में मानसून सीजन की शुरुआत हो जाएगी। इस साल मौसम मानसून के अनुकूल नजर आ रहा है और इसके आगे बढऩे की स्थिति भी काफी अच्छी है। इस साल औसत 96 से 104 प्रतिशत बारिश का अनुमान है। मौसम विभाग के अनुसार मध्य, दक्षिण और उत्तर-पूर्व भारत में सामान्य बारिश की संभावना है, जून में सामान्य से कम बारिश होगी, जिसकी वजह से तापमान सामान्य से ज्यादा रह सकता है।

मौसम विभाग के वैज्ञानिक श्री डीएस पई ने कहा, ‘दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत के अधिकांश हिस्सों, पूर्वी मध्य भारत के कुछ हिस्सों और पूर्वोत्तर एवं सुदूर उत्तर भारत में बारिश सामान्य अथवा सामान्य से अधिक होने के आसार हैं। मगर पश्चिमोत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों, पश्चिम मध्य भारत के समीपवर्ती क्षेत्रों, प्रायद्वीपीय भारत के उत्तरी हिस्सों और हिमालय के तराई वाले क्षेत्रों में बारिश सामान्य अथवा सामान्य से कम रह सकती है।’ मौसम विभाग ने कहा है कि 2023 के मानसून सीजन में अल नीलो विकसित होने की संभावना 90 फीसदी है। जून में देश भर में बारिश एलपीए के 92 फीसदी पर सामान्य से कम रह सकती है।

अल नीनो की संभावना ज्यादा

मौसम विभाग के अनुसार, इस साल अल नीनो की संभावना ज्यादा है और साल के आखिरी तक अल नीनो का खतरा बना रहेगा। वहीं 4 जून तक मानसून केरल में दस्तक दे सकता है।

मानसून कब, कहां पहुंचता है

मानसून की शुरुआत अंडमान-निकोबार से होती है, सबसे पहले 16-17 मई के बीच मानसून अंडमान में दस्तक देता है। हालांकि देश में दक्षिण-पश्चिमी मानसून सक्रिय होता है, जिसकी वजह से मानसून की शुरुआत केरल से मानी जाती है। केरल में मानसून 1 जून तक पहुंचता है, उसके बाद तमिलनाडु, बंगाल की खाड़ी, कोंकण सहित आस-पास के राज्यों में 15-20 जून तक मानसून सक्रिय हो जाता है। इसके बाद मानसून पश्चिमी बेल्ट पर सक्रिय होता है और कर्नाटक, मुंबई में बारिश शुरू होती है, लेकिन इस साल सभी राज्यों में मानसून 3-5 दिन की देरी से पहुंचने का अनुमान है।

मध्यप्रदेश में सामान्य वर्षा होगी

दक्षिण पश्चिमी मानसून सीजन में औसत से कम बारिश रहने की आशंका थी लेकिन मौसम विभाग का अनुमान है कि एमपी में सामान्य वर्षा होगी। प्रशांत महासागर में अल नीनो के प्रभाव के कारण कम बारिश की बात कही जा रही थी लेकिन अब मौसम विभाग का कहना कि एमपी में मानसून पर अल नीनो का ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा।

Share
Advertisements