खरीफ विपणन सीजन 2022-23 में 518 लाख मीट्रिक टन धान खरीद का अनुमान

Share

31 अगस्त 2022, नई दिल्ली: खरीफ विपणन सीजन 2022-23 में 518 लाख मीट्रिक टन धान खरीद का अनुमान – खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग (डीएफपीडी) में सचिव श्री सुधांशु पांडे ने आगामी खरीफ विपणन सीजन (केएमएस) 2022-23 में खरीद प्रबंधों पर चर्चा करने के लिए राज्य खाद्य सचिवों और भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) की एक बैठक की अध्यक्षता की। जिसमे मुख्‍य सचिव/सचिव (खाद्य) और आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, राजस्थान, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, तमिलनाडु, तेलंगाना, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। बैठक में एफसीआई के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक और एफसीआई, खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग, भारतीय मौसम विभाग और कृषि और किसान कल्याण विभाग के अन्य अधिकारी भी शामिल थे।

आगामी केएमएस 2022-23 (खरीफ फसल) के दौरान 518 एलएमटी चावल की मात्रा की खरीद का अनुमान लगाया गया है, जबकि पिछले केएमएस 2021-22 (खरीफ फसल) के दौरान वास्तव में 509.82 एलएमटी की खरीद की गई थी।

बैठक के दौरान, मशीनीकृत खरीद कार्यों को अपनाने, कम ब्याज दर पर उधार लेने, खरीद कार्यों की लागत में कमी, नवीन तकनीकों और गुणवत्ता नियंत्रण तंत्र को अपनाने, मोटे अनाज को बढ़ावा देने, बोरियों की आवश्यकताओं, खाद्य सब्सिडी दावों के ऑनलाइन निपटान आदि से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की गई और सुझाव दिया गया कि ऐसे नवाचारों को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए।

महत्वपूर्ण खबर: किसानों के लिए नए ट्रांसफार्मर मात्र दो घंटे में होंगे उपलब्ध

श्री पाण्डे ने कहा कि न केवल अंतर्राष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष -2023 के कारण, बल्कि जलवायु परिवर्तन के कारण भी मोटे अनाज की खरीद पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए । सचिव, डीएफपीडी ने पैकेजिंग सामग्री की कमी की समस्या पर प्रकाश डाला। यह कहा गया कि पैकेजिंग सामग्री की व्यवस्था करना एक चुनौतीपूर्ण कार्य बन गया है क्योंकि जूट मिलों के माध्यम से केवल 50 प्रतिशत की आवश्यकता की व्यवस्था की जा सकती है। 

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.