यूपीएल का प्रोनुतिवा प्रोग्राम भारत में मूंगफली के किसानों के लिये आशा की किरण बना

Share

मूंगफली की पैदावार 32% तक बढ़ी , 1 लाख से ज्‍यादा किसानों को लाभ

8 दिसम्बर 2021, मुंबई । यूपीएल का प्रोनुतिवा प्रोग्राम भारत में मूंगफली के किसानों के लिये आशा की किरण बना – सस्‍टेनेबल कृषि उत्‍पादों और समाधानों के वैश्विक प्रदाता  यूपीएल लिमिटेड  द्वारा गुजरात में किसानों पर केन्द्रित एक प्रोग्राम यूपीएल प्रोनुतिवा पेश किया गया है। इस प्रोग्राम का लक्ष्‍य किसानों की आय को दोगुनी करना और मूंगफली की उपज तथा उसमें तेल की मात्रा को बढ़ाना है। 16 जिलों और 1722 गांवों तक पहुँचे इस प्रोग्राम ने बेहतरीन परिणाम दिये और भावनगर के पास के गांवों में पैदावार 38% तथा कालावाड तालुका में 62% तक बढ़ गई। इस प्रोजेक्‍ट ने 1लाख 20 हज़ार  किसानों की पैदावार 27-32% तक बढ़ा दी  है।

2021 के खरीफ सीजन के दौरान यूपीएल ने गुजरात के 1 लाख से ज्‍यादा किसानों तक पहुँचने और 1लाख एकड़ कृषि भूमि को यूपीएल प्रोनुतिवा के अंतर्गत लाने की महत्‍वाकांक्षी योजना शुरू की थी। किसान को प्राथमिकता देने वाले अपने एप्रोच के साथ, यूपीएल ने किसानों को सीड ट्रीटमेंट मशीनें दीं और प्रोनुतिवा प्रोग्राम के तहत उन्‍हें टूल्‍स का इस्‍तेमाल करने का प्रशिक्षण दिया। प्रगतिशील नवाचार का इस्‍तेमाल कर और स्‍थायित्‍व की नई कल्‍पना कर यूपीएल ने किसानों को ज़ेबा और कोपियो नामक अपनी दो टिकाऊ तकनीक  भी प्रदान कीं।

भारत में मूंगफली

भारत 20 क्विंटल प्रति एकड़ की औसत उपज के साथ चीन के बाद विश्‍व में मूंगफली का दूसरा सबसे बड़ा उत्‍पादक है। भारत में करीब 3.8 मिलियन हेक्‍टेयर कृषि भूमि पर मूंगफली बोई जाती है। मूंगफली के कुल रकबे में पाँच राज्‍यों– गुजरात (38%), आंध्र प्रदेश (17%), राजस्‍थान (14%), कर्नाटक (10%) और महाराष्‍ट्र (5%) का 84% योगदान है।

बड़ी मात्रा में तेल आयात

भारत में हर साल लगभग 21 मिलियन मेट्रिक टन खाद्य तेल का उपभोग होता है। तेल का घरेलू उत्‍पादन 9 मिलियन मेट्रिक टन है और बाकी 13 मिलियन मेट्रिक टन खाद्य तेल हर साल आयात किया जाता है। वार्षिक आयात में मलेशियन पाम ऑयल, यूएस सोया ऑयल और सनफ्लावर ऑयल का एक बड़ा भाग आता है, जिसका मूल्‍य लगभग 17 बिलियन डॉलर है।

यूपीएल के रीजनल डायरेक्‍टर श्री आशीष डोभाल ने कहा, “यूपीएल इंडिया ने प्रोनुतिवा सॉल्‍यूशंस बनाते समय लगातार किसानों की बात सुनी, उनकी समस्‍याओं को समझा और उनका मूल्‍यांकन किया है। यूपीएल प्रोनुतिवा एक स्‍थायित्‍वपूर्ण कार्यक्रम है, जो भारत में मूंगफली के किसानों को आशा की किरण दे रहा है। उपज में औसतन 30% की बढ़ोतरी से किसानों को प्रति हेक्‍टेयर 20 क्विंटल की उपज के आधार पर 65000 रूपये ज्‍यादा मिलेंगे और औसत मूल्‍य 44 रूपये प्रति किलोग्राम होगा। यूपीएल प्रोनुतिवा से ट्रीट हुई एक मिलियन हेक्‍टेयर मूंगफली भारत के किसानों को 6500 करोड़ रूपये का अतिरिक्‍त मूल्‍य प्रदान करेगी और हजारों किसान अपनी आय को दोगुना करने के सपने की दिशा में  बढ़ेंगे।”

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.