कम्पनी समाचार (Industry News)

इंसेक्टिसाइड्स (इंडिया) ने अंगूर में डाउनी मिल्ड्यू के लिए फंफूदीनाशक ‘स्टनर’ लॉन्च किया

Share

15 अक्टूबर 2022, नासिक: इंसेक्टिसाइड्स (इंडिया) ने अंगूर में डाउनी मिल्ड्यू के लिए फंफूदीनाशक ‘स्टनर’ लॉन्च किया – भारत की प्रमुख फसल सुरक्षा और पोषण कम्पनियों में से एक ‘इंसेक्टिसाइड्स (इंडिया) लिमिटेड’ ;प्प्स्द्ध ने अंगूर में लगने वाली बीमारी ‘डाउनी मिल्ड्यू’ के समाधान के लिए ‘मेड इन इंडिया’ स्टनर लांच किया है। स्टनर से अंगूर की फसल में ‘डाउनी मिल्ड्यू’ से बचाव की वजह से पैदावार भी बढ़ती है। जब अंगूर की फसल में बीमारी लग जाती है तो लगभग 20ःसे लेकर 80ः पौधे नष्ट हो जाते हैं जिस वजह से अंगूर के किसानो को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। डाउनी मिल्ड्यू बीमारी से अंगूर की गुणवत्ता भी बुरी तरह से प्रभावित हो सकती है।

इंसेक्टिसाइड्स (इंडिया) लिण् के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री राजेश अग्रवाल ने स्टनर लांच पर बताया, ‘ऐसा पहली बार हुआ है कि इस टेक्निकल और फार्मुलेशन का निर्माण भारत में किया जा रहा है। अंगूर की पैदावार बेहतर बनाने के उद्देश्य से अंगूर के किसानों के लिए इस फंफूदीनाशक स्टनर को लांच किया गया है। पहले हमारे किसान आयात किये जाने वाले फंगीसाइड को इस्तेमाल करते थे। ‘मेक इन इंडिया’ पहल का पुरजोर समर्थक होने के नाते हमने स्टनर को भारत में बनाने का फैसला किया। स्टनर अंगूर में लगने वाली बीमारी डाउनी मिल्ड्यू का आधुनिक और असरदार समाधान है।’

वाईस प्रेसिडेंट श्री संजय वत्स ने इस अवसर पर कहा, ‘अंगूर की ज्यादातर खेती पश्चिमी महाराष्ट्र में होती है ख़ास करके नासिक, बारामती, सांगली, नारायण गाँव, सोलापुर और सतारा में यह ज्यादा होती है। इन जगहों पर अंगूर के किसानों को डाउनी मिल्ड्यू से राहत दिलाने में हमारा मेड इन इंडिया स्टनर बहुत मददगार साबित होगा। यह स्टनर बीमारी के खिलाफ पौधे के डिफेन्स मेकेनिज्म के रूप में कार्य करता है।’

मार्केटिंग-डीजीएम श्री एन. बी. देशमुख ने बताया, ‘प्प्स् की महाराष्ट्र के फसल सुरक्षा बाजार में अच्छी पकड़ है और हमारे उत्पाद जैसे कि सोफ़िया, मोनोसिल, हरक्युलिस, लीथल गोल्ड यहाँ के किसानों में काफी लोकप्रिय हैं। हमें पूर्ण विश्वास है कि स्टनर, शिनवा और इजुकी जैसे उत्पादों को लांच करने से हम किसानों को उनकी पहुँच में सम्पूर्ण समाधान प्रदान करने में कामयाब होंगे।’

महत्वपूर्ण खबर: ट्राइकोडरमा क्या है और इसका प्रयोग कैसे करते है

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *