दाल इंडस्ट्रीज़ एवं खाद्यान्न व्यापारियों ने 16 जुलाई को कारोबार बंद रखा

Share

18 जुलाई 2022, इंदौर: दाल इंडस्ट्रीज़ एवं खाद्यान्न व्यापारियों ने 16 जुलाई को कारोबार बंद रखा – जीएसटी कौंसिल द्वारा दाल-दलहन एवं अन्य खाद्यान्नों के प्री-पेकेज़्ड और प्री-लेबल्ड पर 5% जीएसटी लगाने के विरोध में  सम्पूर्ण भारत में  दाल इंडस्ट्रीज़ एवं खाद्यान्न व्यापारियों ने 16 जुलाई को कारोबार बंद रखा । यह जानकारी ऑल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन की एक प्रेस विज्ञप्ति में दी गई।

ऑल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री सुरेश अग्रवाल, उपाध्यक्ष श्री अनिल सुरेका (अकोला) और वरिष्ठ सदस्य राजस्थान के श्री राजकुमार पचिसिया, गुजरात केश्री  हेमलभाई शाह और श्री विक्रम ठक्कर, उत्तरप्रदेश दाल मिलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री मिथिलेशकुमार गुप्ता ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति में  बताया कि जीएसटी कौंसिल द्वारा दाल-दलहन एवं अन्य खाद्यान्नों के प्री-पेकेज़्ड और प्री-लेबल्ड पर 5% जीएसटी लगाने के विरोध में सम्पूर्ण भारत में एक दिवसीय कारोबार मुकम्मल बंद रहा। इस दौरान देश की सभी दाल इंडस्ट्रीज़ और समस्त प्रकार के खाद्यान्न व्यापार से जुड़े व्यापारी, उद्योगपति एवं कारोबारी ने अपना सम्पूर्ण कारोबार बंद रखा तथा देश की सभी मंडियाँ  बंद रही | मध्यप्रदेश , गुजरात, महाराष्ट्र के अलावा दिल्ली, बिहार, झारखंड, तेलंगाना, तमिलनाडु, पश्चिमबंगाल, असम, ओडिशा सहित देश के अन्य राज्यों की दाल इंडस्ट्रीज़ ने भी इस बंद को अपना समर्थन देते हुए सभी दाल इंडस्ट्रीज़ में कारखाने बंद रहने के साथ माल की आवक-जावक सम्पूर्ण रूप से बंद रही।

कारोबार बंद के दौरान देश के सभी व्यापारी संगठनों ने जीएसटी निरस्त करने के लिए अपने-अपने जिलों में वाणिज्यिक कर आयुक्त एवं जिलाधीश को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी एवं केन्द्रीय वित्तमंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण के नाम ज्ञापन सौंप कर मांग की, कि देश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों  और खाद्यान्न व्यापार से जुड़े सभी खुदरा व्यापारियों के हित में 5 % जीएसटी को निरस्त किया जाए।

महत्वपूर्ण खबर: सोयाबीन कृषकों के लिए उपयोगी सलाह (18-24 जुलाई ) 

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.