कम्पनी समाचार (Industry News)

बेस्ट एग्रोलाइफ ने स्वदेशी सीटीपीआर-तकनीक विकसित की

Share

27 नवम्बर 2022, नई दिल्ली बेस्ट एग्रोलाइफ ने स्वदेशी सीटीपीआर-तकनीक विकसित की  भारत की अग्रणी एग्रोकेमिकल कंपनी, बेस्ट एग्रोलाइफ लि. (बीएएल) ने विगत दिनों एक मेगा डिस्ट्रीब्यूटर्स मीट का आयोजन किया और पटाया, बैंकॉक में दो नए क्रांतिकारी सीटीपीआर-आधारित फॉर्मूलेशन सिटीजेन और विस्तारा लॉन्च किए। बेस्ट एग्रोलाइफ पहली भारतीय एग्रोकेमिकल कंपनी है, जिसने सीटीपीआर तकनीकी को स्वदेशी रूप से निर्माण किया है। यह सम्मलेन  विशेष रूप से महाराष्ट्र के वितरकों के लिए आयोजित किया गया था। श्री राजन कुमार एलावधी, कार्यकारी निदेशक, और बेस्ट एग्रोलाइफ की पूरी मार्केटिंग टीम के साथ 170 से अधिक वितरकों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।

प्रबंध निदेशक श्री एलावधी

प्रबंध निदेशक श्री विमल एलावधी ने कहा कि, ‘हम हर नए उत्पाद के लॉन्च के साथ नवाचार के स्तर को बढ़ा रहे हैं। बेस्ट एग्रो ने अपनी अनुसंधान और विकास क्षमताओं को बढ़ाने के लिए भारी निवेश किया है। नए उत्पाद  सिटीजेन और विस्तारा कृषि में कीट नियंत्रण के लिए अत्यधिक प्रभावी और किफायती समाधान प्रदान करेंगे। जहां एक ओर ये किसानों की उत्पादकता में वृद्धि करेंगे, वहीं ये हमारे वितरकों और डीलरों को मार्केटिंग में बढ़त भी प्रदान करेंगे’।

सीटीपीआर (क्लोरेंट्रानिलिप्रोल) आधारित उत्पादों का व्यापक उपयोग है, और इसका बाजार वर्तमान में 2000 करोड़ रुपये से अधिक है। जो कि कीटनाशक बाजार का कुल 8 प्रतिशत है।

सिटीजेन

सिटीजेन (क्लोरेंट्रानिलिप्रोल 18.5 प्रतिशत डब्ल्यू/डब्ल्यू एससी) एक ब्रॉड स्पेक्ट्रम कीटनाशक है जिसमें विशिष्ट कीटनाशक क्षमता, लंबी बारिश में भी असरकारक और मानव जीवन के लिए हानिकारक नहीं है। गन्ना और चावल के अलावा, गोभी, कपास, टमाटर, मिर्च, सोयाबीन, बैंगन, अरहर, बंगाल चना, काला चना, करेला, भिंडी, मक्का और मूंगफली की फसल के कीटों को नियंत्रित करने के लिए सिटीजन की अत्यधिक अनुशंसा की जाती है। यह बॉल वर्म, तना बेधक, फल छेदक, चने की फली छेदक, तना मक्खियों, तंबाकू के कैटरपिलर और फली छेदक पर कार्य करता है।

विस्तारा

विस्तारा (क्लोरेंट्रानिलिप्रोल 0.4 प्रतिशत जीआर) धान और गन्ने में तना बेधक और उसकी वृद्धि को रोकता है और इस तरह उत्पादन को अधिकतम करता है। इसकी उच्च क्षमता और नई कार्यप्रणाली अन्य कीटनाशकों के लिए प्रतिरोधी कीटों को भी प्रभावी ढंग से नियंत्रित करती  है।

उल्लेखनीय होगा कि बीएएल की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी, सीडलिंग्स इंडिया प्रा. लि. ने हाल ही में साइज़ोफैमिड, डिमेथोमोर्फ, और डिफेनोकोनाज़ोल की कवकनाशी संरचना के लिए 20 वर्षों का  वैध पेटेंट प्राप्त किया है, जो टमाटर और अंगूर की फसलों में क्रमश: लेट ब्लाइट और डाउनी मिल्ड्यू के एक अत्यधिक प्रभावी समाधान के रूप में उभरने वाला है।

महत्वपूर्ण खबर: एमपी फार्मगेट एप से किसानों को उपज बेचना हुआ आसान

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *