कृषि की राह में कारपोरेट रोड़े

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
  • भारत डोगरा

25 मार्च 2021, भोपाल । कृषि की राह में कारपोरेट रोड़े – आज विश्व स्तर पर यह जरूरत महसूस की जा रही है कि कृषि नीति छोटे किसानों के हितों के अनुरूप हो व उनके खर्च और कर्ज के बोझ को कम करते हुए आजीविका के आधार को मजबूत करे। दूसरी बड़ी जरूरत यह है कि कृषि पर्यावरण के अनुकूल हो। यदि मिट्टी व जल संरक्षण सुनिश्चित हो, किसान के मित्र सभी जीवों की व सूक्ष्म जीवों की, केंचुओं व कीट- पतंगों की, देसी नस्ल के पशुओं व परागीकरण करने के पक्षियों-कीटों-मधुमक्ख्यिों और परंपरागत बीजों की रक्षा हो तो खेती के टिकाऊ व कम खर्चीले विकास की राह प्रशस्त होती है तथा साथ में ‘ग्रीन हाऊस गैसोंÓ का उत्सर्जन भी कम होता है।

यह तय करना कठिन नहीं है कि हमें कौन सी कृषि की राह अपनानी चाहिए। यह राह ऐसी होनी चाहिए जिससे बाहरी खर्च (जैसे रसायनिक खाद व कीटनाशक दवा) न्यूनतम हो, स्थानीय संसाधनों का सर्वोत्तम उपयोग हो, जिससे किसान समुदायों की आत्मनिर्भरता बढ़े, जिससे परंपरागत ज्ञान व जैव-विविधता का भी सम्मान हो, जो अपने बल पर बाहरी संकटों से जूझने में समर्थ हो, जो पर्यावरण की रक्षा पर आधारित भी हो तथा साथ में मिट्टी-पानी और पर्यावरण की रक्षा को आगे भी बढ़ाए।

अब यह वैज्ञानिक तौर पर सिद्ध हो चुका है कि मिट्टी के आर्गेनिक या जैविक तत्व स्थानीय स्तर पर पत्तियों, पौधों/ फसलों के अवशेषों, गोबर आदि के गलने-सडऩे से या केंचुओं जैसे जीवों की प्रक्रियाओं से बनते हैं और इनमें कार्बन डाई ऑक्साईड जैसी प्रमुख ग्रीन हाऊस गैस सोखने की व इस तरह जलवायु बदलाव के संकट को कम करने की बहुत क्षमता है। इसके अतिरिक्त स्थानीय मिश्रित प्रजातियों के जितने पेड़ पनपेंगे, बचेंगे, चरागाह जितने पनपेंगे, धरती जितनी शस्य-श्यामला बनेगी, जितनी वन-रक्षा होगी, उतना ही ‘ग्रीनहाऊस गैसोंÓ का प्रकोप कम होगा व साथ में मिट्टी व जल संरक्षण, जैव-विविधता का संरक्षण भी होगा। तो फिर आखिर ऐसी नीतियां जो हर दृष्टि से लाभदायक हैं, क्यों नहीं अपनाई जातीं? इस सवाल का स्पष्ट उत्तर है कि जो बड़े पूंजीपति खेती, किसानों का आत्मनिर्भर विकास नहीं चाहते, वे इन नीतियों की राह में बाधा उपस्थित करते हैं। उनका मानना है कि यदि किसान व गांव आत्मनिर्भर बन गए तो हम उनसे कैसे कमाएंगे। ये पूंजीपति चाहते हैं कि किसान निरंतर निर्भर बना रहे, बीज, रसायनिक खाद व कीटनाशक, खरपतवारनाशक, फंफूदनाशक दवा खरीदता रहे, अधिक डीजल खरीदता रहे, अधिक शराब पीता रहे, गुटका खाता रहे, क्योंकि तभी तो पूंजीपति को किसानों व ग्रामीणों से कमाने का अवसर मिलता है। देश-विदेश-दुनिया भर के बड़े पूंजीपति चाहते हैं कि किसान व गांव समुदाय की आत्मनिर्भरता बढऩे के स्थान पर निरंतर कम हो, किसान के खर्च कम होने के स्थान पर निरंतर बढ़ें, ताकि पूंजीपति उनसे अधिक कमा सकें।

यही वजह थी कि इन बड़े पूंजीपतियों व कंपनियों ने आत्मनिर्भर खेती करने वाले किसानों को हरित क्रांति की भ्रान्ति पैदा करते हुए एक ऐसी राह पर धकेलना आरंभ किया जिससे वे निरंतर महंगे बीज, रसायनिक खाद, दवा आदि के लिए बाजार पर निर्भर होते जाएं व अपनी एक मुख्य शक्ति पशुधन को कम कर दें। इसके बाद उनका दूसरा कदम था, बीजों के पेटेंट करने व जीन-संशोधित (जीएम) फसलों के प्रसार को बढ़ाना, क्योंकि बहुराष्ट्रीय कंपनियों को खेती पर नियंत्रण और बढ़ाना था। इसी राह पर चलते हुए वे ठेका खेती, खर्चीली खेती, निजीकरण, कंपनियों द्वारा जरूरी खाद्य की जमाखोरी की प्रवृत्ति के लिए जोर लगा रहे हैं व इसके लिए कानून बनवाने का प्रयास कर रहे हैं। वे विश्व के अनेक क्षेत्रों में सफल भी हो रहे हैं, क्योंकि उनके साथ सरकारी अधिकारियों व राजनेताओं, विशेषज्ञों, अंर्तराष्ट्रीय एजेंसियों, मीडियाकर्मियों, एनजीओ आदि की एक बड़ी फौज है व वे एक-दूसरे का पोषण करते रहते हैं। यहां तक कि वे समय-समय पर अपने व्यक्तियों को ट्रेनिंग देकर किसानों के नेता के रूप में प्रतिष्ठित कर देते हैं और उसे सरकारी मान्यता दिलवा देते हैं।

ऐसे में जरूरी है कि किसानों की अपनी स्पष्ट समझ बनाने के रूप में ताकत बने और पूरी तरह ईमानदार व्यक्ति उनके साथ सहायता के लिए जुड़े, ताकि कृषि, किसानों, कृषि से जुड़े पर्यावरण सभी की रक्षा एक साथ हो सके। इसके साथ भूमिहीनों के सरोकारों को जोडऩा बहुत जरूरी है। प्रयास यही होना चाहिए कि कम-से-कम, कुछ भूमि उन्हें अवश्य मिले तथा इसके साथ वन-रक्षा, वनीकारण, जल व मिट्टी संरक्षण जैसे कार्यों में उन्हें निरंतरता से अधिक संतोषजनक रोजगार मिले। (सप्रेस)

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।