फसल की खेती (Crop Cultivation)

सोयाबीन भट क्या है और किसान इसके बीज के लिए पूछताछ क्यों कर रहे हैं?

Share

10 मई 2024, नई दिल्ली: सोयाबीन भट क्या है और किसान इसके बीज के लिए पूछताछ क्यों कर रहे हैं? – सोयाबीन भट सोयाबीन की एक पारंपरिक किस्म है। यह पहाड़ों में उगाया जाता है और बारहनाजा की फसलों में से एक है। बारहनाजा में भारत के उत्तरी क्षेत्र में उगाई जाने वाली 12 फसलें शामिल हैं। यह सोयाबीन भट कैल्शियम, फास्फोरस और आयरन से भरपूर होता है। यह विटामिन का भी अच्छा स्रोत है और इसमें 40% से अधिक प्रोटीन होता है।  इसे पकाया जा सकता है, अन्य दालों के साथ मिलाया जा सकता है और पहाड़ी व्यंजनों के साथ खाया जा सकता है।  बाजार में यह 105 रुपये प्रति किलो बिकता है। यह काले रंग में भी आता है और इसे पहाड़ी ब्लैक सोयाबीन (काला भट) के नाम से जाना जाता है। बाजार में पहाड़ी ब्लैक सोयाबीन (काला भट) 320 रुपये प्रति किलो बिकता है। 

किसानों द्वारा सोयाबीन भट बीज की खोज करने का एक मुख्य कारण इसका उच्च आर्थिक मूल्य है। शहरों में लोग अनाज के बजाय मिलेट्स पसंद कर रहे हैं और हमेशा अधिक स्वस्थ खाने के विकल्पों की तलाश में रहते हैं।

सोयाबीन भट उत्तराखंड में किसानों द्वारा व्यापक रूप से उगाया जाता है और आमतौर पर घरेलू उपभोग के लिए उगाया जाता है। चूँकि यह एक संकर फसल नहीं है, इसलिए किसान आने वाले सीज़न के लिए मौजूदा सीज़न से कुछ बीज बचाकर रखते हैं और इसी तरह इसका बीज उत्पादन होता है। सोयाबीन भट बीज खरीदने के इच्छुक किसान उत्तराखंड के किसानों और एफपीओ से पूछताछ करने का प्रयास कर सकते हैं।

बारहनाजा की फसलों के तहत उगाई जाने वाली बारह प्रमुख फसलों में शामिल हैं मंडुआ/रागी, रामदाना (ऐमारैंथ), राजमा, ओगल (एक प्रकार का अनाज), उड़द, मूंग, गहत/कुलथ, भट (सोयाबीन), लोबिया, खीरा/ककड़ी, भंगजीरा (भांग), जखिया (क्लोम)।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

To view e-paper online click below link: https://www.krishakjagat.org/kj_epaper/Detail.php?Issue_no=36&Edition=mp&IssueDate=2024-05-06

To visit Hindi website click below link:

www.krishakjagat.org

To visit English website click below link:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements