फसल की खेती (Crop Cultivation)

सफेद मूसली की कटाई और कटाई के बाद का प्रबंधन: गुणवत्ता और शेल्फ-लाइफ सुनिश्चित करें

Share

24 जून 2024, भोपाल: सफेद मूसली की कटाई और कटाई के बाद का प्रबंधन: गुणवत्ता और शेल्फ-लाइफ सुनिश्चित करें – सफेद मूसली की गुणवत्ता और शेल्फ-लाइफ सुनिश्चित करने के लिए कटाई और कटाई के बाद का प्रबंधन महत्वपूर्ण चरण हैं। जाने इन प्रक्रियाओं के महत्व और विधियाँ।

कटाई का समय

सफेद मूसली की कटाई नवंबर से दिसंबर के बीच की जानी चाहिए। पत्ती मुरझाने और जड़ पकने के बीच का समय महत्वपूर्ण होता है। कटाई से पहले हल्की सिंचाई करनी चाहिए ताकि जड़ों को आसानी से निकाला जा सके।

कटाई के बाद का प्रबंधन

खुदाई के बाद जड़ों को 3-4 दिनों तक छाया में सुखाया जाता है। इससे नमी और चिपकी हुई मिट्टी हट जाती है। इसके बाद जड़ों को धोकर, छीलकर और सुखाया जाता है।


सही कटाई और प्रबंधन से सफेद मूसली की गुणवत्ता और शेल्फ-लाइफ सुनिश्चित होती है, जिससे बाजार में अच्छे दाम मिलते हैं।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements