किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story) में कृषि और संबद्ध गतिविधियों में किसान की सफलता की कहानी से संबंधित समाचार और लेख हैं। किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story) में किसानों से संबंधित कहानियाँ भी शामिल हैं जहाँ उन्होंने खेती की गतिविधियों से उच्च लाभ कमाया है या नियमित कृषि पद्धतियों को बदलकर और कृषि के नए तरीकों को अपनाकर अधिक लाभ कमाया है। इसमें पूरे भारत से और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) और भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईएआरआई) जैसे राष्ट्रीय संस्थानों से भी कहानियां शामिल हैं। इसमें गेहूं, सोयाबीन, चना, धान, बासमती जैसी फसलें और आम, सेब, पपीता, अमरूद, बिंदी, भिंडी, टमाटर, प्याज, फूलगोभी, मटर, ड्रैगन फ्रूट, तोरी आदि फल और सब्जियां (बागवानी फसलें) की सफलता की कहानियां शामिल हैं।

किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

गांव की मिट्टी की खुशबू विदेश से खींच लाई नलखेड़ा के रामपाल को

गांव की मिट्टी की खुशबू विदेश से खींच लाई नलखेड़ा के रामपाल को महानगरों की बेरुखी ने बढ़ाई खेती के प्रति इस युवक की दिलचस्पी शहर की इस भीड़ में चल तो रहा हूंजेहन में पर गांव का नक्शा रखा

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

चर्चा में है भेरूलाल की भिंडी

चर्चा में है भेरूलाल की भिंडी 24 जुलाई 2020, इंदौर। चर्चा में है भेरूलाल की भिंडी – लॉकडाउन से बिगड़े हालातों से कोई निराश हो गया, तो किसी ने इसे चुनौती मानकर विपरीत परिस्थिति में भी कुछ कर गुजरने की

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

कृषि विज्ञान केन्द्र से सीखी केंचुआ खाद उत्पादन तकनीक

रीवा। कृषि विज्ञान केन्द्र रीवा द्वारा जैविक खेती की दिशा में स्थापित केचुआ खाद उत्पादन प्रदर्शन इकाई, प्रशिक्षण कार्यक्रमों एवं विस्तार गतिविधियों के परिणाम स्वरूप जिले के कृषक भी केंचुआ खाद उत्पादन में विशेष रूचि दर्शा रहे हैं। कृषि विज्ञान

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

संतरा साथ लाया समृद्धि के द्वार

(जगदीश फरक्या) मंदसौर। म.प्र. के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ कृषि सलाहकार परिषद की प्रथम बैठक में म.प्र. को देश की हार्टीकल्चर राजधानी बनाने की बात कहते किंतु दूसरी और पहले से ही म.प्र. में हार्टीकल्चर फसलों में क्रांति लायें किसानों की

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

अमरुद ने कराई, लाखों की कमाई

इंदौर। परम्परागत खेती के बजाय उद्यानिकी फसलों में बढ़ते मुनाफे को देखकर करीब 8 वर्ष पूर्व राजोद जिला धार के उन्नत कृषक श्री मोहन मदारिया (46) द्वारा लगाए गए वीएनआर किस्म के अमरुद के पौधों से लाखों की कमाई होने

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

धर्मेंद्र ने जैविक खेती से जमाई धाक

सफलता की कहानी इंदौर। जैविक खेती धीरे-धीरे लोकप्रियता की ओर अग्रसर है. उज्जैन विकासखंड के ग्राम मतानाखुर्द निवासी श्री धर्मेंद्र सिंह पिता श्री कमलसिंह पंवार गत तीन वर्षों से जैविक खेती कर रहे हैं .रासायनिक खाद और दवाइयों का उपयोग

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
Advertisements
किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

गेंदे की फसल से हुआ 11 लाख का मुनाफा

इंदौर। धार जिले के ग्राम एहमद के किसान श्री राजेश शांतिलाल पाटीदार (39) की औपचारिक शिक्षा तो दसवीं ही है, लेकिन पिताजी की प्रेरणा से खेती में नई तकनीकों को अपनाकर इसे लाभ का धंधा बनाने में जुटे हुए हैं।

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

तकनीकी जानकारी से एवं मशीनरी का उपयोग कर हुआ सफल किसान

जबलपुर। जबलपुर के किसान अजीत अग्रवाल ग्राम उमरिया पोस्ट खमरिया तहसील पनागर जिला जबलपुर के किसान हैं जिन्होंने 4 एकड़ जमीन में अपनी रुचि के अनुसार बेंगान की फसल लगाई ऐसे में रिलायंस फाउंडेशन के कार्यकर्ता द्वारा अजीत अग्रवाल को बताया

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

केले ने बढ़ाई, महेश की कमाई

इंदौर। परंपरागत खेती के बजाय यदि नए उन्नत तरीकों से खेती की जाए तो कमाई को और भी बढ़ाया जा सकता है। ऐसी ही पहल ग्राम बलगांव तहसील कसरावद के उन्नत किसान श्री महेश पटेल ने की। उन्होंने पहले छोटे

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें
किसानों की सफलता की कहानी (Farmer Success Story)

केले के बगीचे से किसान हुआ मालामाल

रीवा। प्रो. एस. के .पाण्डेय अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय रीवा के मार्गदर्शन में एवं प्रमुख कृषि विज्ञान केन्द्र रीवा के डॉ. ए. के. पाण्डेय के निर्देशन में उद्यान वैज्ञानिक डॉ. राजेश सिंह कृषि विज्ञान केन्द्र रीवा के तकनीकी देखरेख में कृषक

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें