अधिकांश चौड़ी पत्ती वाली फसलों में भभूतिया रोग देखा जा रहा है। नियंत्रण के उपाय बतायें।

Share

समाधान – भभूतिया रोग (पाउड्री मिलड्यू) फसलों की एक सामान्य बीमारी है। इसका प्रकोप आरम्भ में पता नहीं पड़ पाता जब पत्तियों के ऊपरी भाग सफेद पाउडर से ढंक जाता है तब ही इसके प्रकोप का पता चलता है। वैसे यह पौधों के ऊपरी भाग पत्तियों की निचली सतह, तने, कलियां, फूल व फलों को भी ग्रसित करता है। यह पौधे को पूर्णत: नहीं मारता परन्तु पौधों को कमजोर कर देता है। भभूतिया रोग कई फफूंदियों से उत्पन्न होता है। हरेक फफूंद एक विशेष पौधे को ग्रसित करती है।

  • इसके प्रबंधन के लिए रोग प्रतिरोधी जातियां लगायें। आरम्भ में ग्रसित पौधों को नष्ट कर दें। नत्रजन की संतुलित मात्रा दें। पानी पौधों के ऊपर से न दें।
  • इसके नियंत्रण के लिए प्रकोप दिखते ही 0.3 प्रतिशत घुलनशील गंधक (3 ग्राम प्रति लीटर पानी) का छिड़काव करें।
  • इसके नियंत्रण के लिए खाने का सोडा (सोडियम बाईकार्बोनेट) का भी उपयोग कारगर सिद्ध हुआ है। इसके लिए 1 ग्राम सोडा प्रति लीटर पानी में घोल बना लें, उसमें साबुन या तेल मिला कर छिड़काव करने से यह रोग नियंत्रित हो जाता है परन्तु इसका छिड़काव हर सप्ताह करना चाहिए।

किशनलाल, बारां, (राज.)

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.