मैं चौलाई लगाना चाहता हूं, कृपया तकनीकी बतायें।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

समाधान- चौलाई की भाजी आदिकाल से लगाई जाती रही है। इसमें प्रोटीन एवं विटामिन ‘ए’ अधिक मात्रा में मिलता है। आप चौलाई लगायें निम्न तकनीकी भी अपनाएं-

  • सभी प्रकार की भूमि में लगाई जा सकती है। दोमट भूमि सर्वोत्तम होती है।
  • सामान्य तौर पर इसे जून-जुलाई में लगाते हैं जायद में भी इसे लगा सकते हैं।
  • एक हेक्टर क्षेत्र के लिये 2.5 किलो बीज पर्याप्त होता है।
  • बीज छिटकवा विधि से बोया जाता है। बीज के साथ उतनी ही मात्रा में रेत या गोबर की खाद मिलाकर छिटकें तो अच्छा होगा।
  • उन्नत किस्मों में बड़ी चौलाई, छोटी चौलाई, अन्नपूर्णा कोयम्बटूर-1, कोयम्बटूर-2, पूसा कीर्ति, पूसा किरण, पूसा लाल चौलाई इत्यादि प्रमुख हैं।
  • भूमि में नमी की परख देखकर बुआई के तुरंद बाद हल्की सिंचाई करें तथा 4-5 दिनों के अंतर से सिंचाई की जाये।
  • निंदाई-गुड़ाई अवश्य रूप से की जाये।

दयाराम काछी, पनागर

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − seventeen =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।