सोनालीका की बढ़त का आधार – संतुष्ट ग्राहक : श्री मुनीष कुमार

Share this

भोपाल। भारत की तीसरी सबसे बड़ी ट्रैक्टर निर्माता सोनालीका इंटरनेशनल ट्रैक्टर लि. ने वित्त वर्ष 2017 में मध्यप्रदेश में 22.6 प्रतिशत की वृद्धि दर हासिल की है। कम्पनी ने म.प्र. में वित्त वर्ष 2017 में 8507 ट्रैक्टरों की बिक्री की है जबकि गत वर्ष यह बिक्री 6941 ट्रैक्टरों की थी। सोनालीका ने नये वित्तीय वर्ष 2018 के पहले माह अप्रैल में ही 36.5 प्रतिशत की वृद्धि दर के साथ ट्रैक्टर बिक्री में बढ़त बनाये रखने की दृढ़ इच्छा शक्ति को दर्शा दिया है। कंपनी ने अप्रैल 2016 में 683 ट्रैक्टरों की बिक्री की तुलना में अप्रैल 2017 में 932 ट्रैक्टरों की बिक्री की है। कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट सेल्स एंड मार्केटिं श्री मुनीष कुमार ने यहां आयोजित पत्रकार वार्ता में  इस शानदार सफलता का श्रेय किसान की आवश्यकता अनुरूप निर्मित सोनालीका ट्रैक्टर, बिक्री पश्चात सेवा तथा डीलर नेटवर्क को दिया। श्री मुनीष कुमार ने कहा कि प्रगति की रणनीति के अंतर्गत ग्राहकों को संतोषजनक सेवाएं देने के लिये इस राज्य में कौशल विकास केंद्र के माध्यम से मैकेनिकों व तकनीशियनों को व्यवहारिक प्रशिक्षण, मैदानी प्रशिक्षण, सैद्धांतिक प्रशिक्षण दे रहे हैं।
श्री गंगवार जोनल हेड
इस तरह के 30 कौशल विकास केन्द्र पूरे देश में कार्य कर रहे हैं। हमारी योजना मध्यप्रदेश में नये उत्पाद लाने की भी है। श्री आर.पी. गंगवार जोनल हैड ने कहा कि कंपनी ने मध्यप्रदेश के ट्रैक्टर बाजार में 13.5 प्रतिशत का मार्केट शेयर हासिल कर लिया है। उन्होंने बताया कि सोनालीका 50 हा.पा. या उससे ऊपर की ट्रैक्टर श्रेणी में मार्केट लीडर की भूमिका में है।  इसी तरह 20 हा. पा. ट्रैक्टर श्रेणी में भी सोनालीका के ट्रैक्टर किसानों की सर्वाधिक पसंद बने हुए हैं। सोनालीका का इस वर्ष 11000 से अधिक ट्रैक्टर बिक्री का लक्ष्य है। कंपनी म.प्र. कृषि अभियांत्रिकी विभाग के सहयोग से इंदौर में एक ट्रैनिंग सेंटर प्रारंभ करने जा रही है। इस सेंटर से 1 वर्ष में प्रदेश के 240 युवाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य है। प्रदेश के पांच स्थानों सिवनी, धार, शिवपुरी, होशंगाबाद व खंडवा में कौशल विकास केंद्र के द्वारा स्थानीय  मैकेनिकों व तकनीशियनों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।