न पिएं अधिक ठंडा शीतल पेय

Share

1. यदि आप ठंडे पेय पदार्थों का अत्यधिक सेवन करते हैं तो पहले यह जांच लें कि आपका स्वास्थ्य इससे कितना प्रभावित होता है.
2. शक्कर युक्त शीतल पेय को भोजन के दौरान पिएं. भोजन की उपस्थिति से सोडा का कैविटी बनाने वाला असर मंद पड़ जाता है और दांत स्वस्थ रहते हैं.
3. सोडा वाले पेय को चुस्की ले-लेकर धीरे-धीरे न पिएं. चुस्कियां लेने से दांत मीठे अम्लीय शर्बत में पूरी तरह नहा जाते हैं और यह अम्ल दांतों के एनामेल को नुकसान पहुंचाता है, इसलिये शीतल पेय को जल्दी-जल्दी पिएं.
4. सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम लेते हैं. शीतलपेय न सिर्फ आपके भोजन में मौजूद कैल्शियम को बर्बाद करते हैं, बल्कि आपके शरीर में पहले से मौजूद कैल्शियम को भी सोख लेते हैं. कैल्शियम के सप्लीमेंट लेने से ही इस नुकसान की भरपाई होती है.
5. तेज धूप से आने के बाद थोड़ा रुके उसके बाद पानी या कोई अन्य शीतल पेय पिएं, लेकिन ध्यान रहे कि अधिक ठंडा न हो. क्योंकि सर्द गर्म होने से जुकाम आदि हो सकता है.
6. संतरे का रस तन मन की थकान को दूर करता है. यदि आप किसी मीटिंग आदि में व्यस्त हैं तो जरूर लें. क्योंकि इससे बार-बार प्यास नहीं लगती है .और शरीर भी स्फूर्ति$वान बना रहता है.

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.