खरीफ के लिये प्रमाणित बीजों की व्यवस्था करें

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

बीज उत्पादक और विपणन संघ के संचालक मंडल की बैठक
भोपाल। मध्यप्रदेश राज्य बीज उत्पादक एवं विपणन संघ के संचालक मंडल की बैठक में आगामी खरीफ सीजन के लिये प्रमाणित बीजों की उपलब्धता और वितरण की तैयारियों की समीक्षा की गई। बैठक की अध्यक्षता सहकारिता मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने की। बैठक में कृषि मंत्री श्री गौरी शंकर बिसेन भी उपस्थित थे।
बैठक में बताया गया कि बीज उत्पादन और वितरण की जानकारी एकत्रित करने के लिये एमपी ऑनलाइन के माध्यम से एक साफ्टवेयर तैयार किया जा रहा है। एमपी ऑनलाइन के प्रदेश में विभिन्न स्थान पर कार्यरत कियोस्क के जरिये बीज उत्पादन और वितरण संबंधी जानकारी का डाटा आसानी से संग्रहित कर सूचनाओं का त्वरित आदान-प्रदान किया जा सकेगा।
बीज संघ द्वारा रबी सीजन वर्ष 2014-15 में बीज उत्पादक समितियों को विभिन्न फसल और किस्मों के 1113 क्विंटल प्रजनक बीज उपलब्ध करवाये गये हैं। इसके अलावा बीज संघ द्वारा रबी सीजन में 3 लाख 33 हजार क्विंटल बीज सामान्य उत्पादन के लिये विभिन्न माध्यम से किसानों को वितरित किये गये। प्रमुख सचिव सहकारिता श्री अजीत केसरी ने बताया कि वर्तमान में प्रदेश में 2338 प्राथमिक बीज उत्पादक सहकारी संस्थाएँ पंजीकृत हैं। इनमें से 711 संस्थाएँ बीज संघ की सदस्य है। इन संस्थाओं द्वारा प्रदेश में प्रमाणित बीज के उत्पादन का काम किया जा रहा है।
आवास संघ के तकनीकी सहयोग से प्रदेश में एक हजार मीट्रिक टन क्षमता वाले 20 गोदाम बनाये जा रहे हैं। इनमें से सागर, देवास, खंडवा, खरगोन, मंदसौर, विदिशा, सतना, बालाघाट, सीहोर, उज्जैन, धार और टीकमगढ़ में बीज गोदामों का निर्माण प्रगति पर है। इसके अलावा होशंगाबाद, रायसेन, मंडला, दमोह, झाबुआ तथा बैतूल में गोदाम निर्माण के लिये आवास संघ को भूमि उपलब्ध करवा दी गई है। गोदामों का निर्माण कार्य पूरा होने पर आवास संघ इन्हें बीज संघ को हस्तांतरित करेगा। सभी निर्मित गोदामों में एमपी एग्रो के माध्यम से ग्रेडिंग संयंत्र भी स्थापित किये जायेंगे। बैठक में आयुक्त सहकारिता श्री मनीष श्रीवास्तव मौजूद थे।

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten − three =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।