कृषि उत्पादों का निर्यात बढ़ायेंगे : श्री चौहान

Share

मुख्यमंत्री ने नीति आयोग की बैठक को किया संबोधित

27 दिसंबर 2021, भोपाल । कृषि उत्पादों का निर्यात बढ़ायेंगे : श्री चौहान – मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश को तेज गति से विकास के पथ पर अग्रसर करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए आत्म-निर्भर भारत बनाने के मंत्र में मध्यप्रदेश का पूरा योगदान रहेगा। नीति आयोग के सुझावों पर अमल कर प्रदेश को देश का अग्रणी राज्य बनाने में कमी नहीं रहने देंगे। इलेक्ट्रॉनिक मेन्यूफेक्चरिंग के क्षेत्र सहित विभिन्न क्षेत्रों में नीति आयोग के सहयोग से प्रदेश में नए आयाम स्थापित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में नीति आयोग की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

श्री चौहान ने कहा कि किसानों को फसलों के उत्पादन का ठीक दाम मिले इस पर समग्र रुप से विचार किया जाएगा। हमने किसानों को फसलों का उचित मूल्य दिलाने के लिए भावांतर भुगतान योजना लागू की है। इससे किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ। दूध के उत्पादन में भी प्रदेश में अच्छी वृद्धि हुई है। सिंचाई के क्षेत्र एवं पेयजल की योजनाओं में मध्यप्रदेश ने काफी उन्नति की है। श्री चौहान ने कहा कि जिन गाँवों में भूमिगत जल के स्रोत नहीं हैं, वहाँ नये जल स्रोत विकसित किए जाएंगे। प्रदेश में स्वच्छता संबंधी सुविधाओं में वृद्धि हुई है। श्री चौहान ने कहा कि गोवर्धन योजना में प्रदेश में निरंतर कार्य चल रहा है। इससे सीएनजी गैस बनाने का कार्य भी चल रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सिंचाई क्षमता में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम कहाँ हैं इस विषय में नीति आयोग ने हमें अवगत कराया है। इसके आधार पर हम आगे बढ़ेंगे। जहाँ सुधार की जरूरत होगी वहाँ सुधार करेंगे। प्रदेश के कृषि उत्पादों का निर्यात बढ़ायेंगे, उत्पादों की गुणवत्ता बढ़ायेंगे, व्यवस्थाओं में सुधार करेंगे और जो गेप है उसकी भरपाई करेंगे। योजनाओं को आगे बढ़ायेंगे। जरुरत के अनुसार संवाद करेंगे।

नीति आयोग के सदस्यों ने विभिन्न योजनाओं पर केन्द्रित प्रस्तुतिकरण दिया। सदस्यों ने कहा कि मध्यप्रदेश में विकास दर अच्छी रही है। कृषि के क्षेत्र में बहुत बड़ा कार्य हुआ है। राज्य को आगे ले जाने के लिए किसानों की आय बढ़ाना जरूरी है। पशुपालन, वानिकी और बाँस की खेती को बढ़ावा देना भी जरूरी है। दालों का उत्पादन और बढ़ाने की जरूरत है। बैठक में मंत्रीगण, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान के उपाध्यक्ष श्री सचिन चतुर्वेदी, नीति आयोग के सदस्य श्री विजय कुमार सारस्वत, वरिष्ठ अधिकारी सहित अन्य सदस्य मौजूद थे।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.