राज्य कृषि समाचार (State News)

मिट्टी परीक्षण का वर्षा जब कृषि सुखाने

Share

मधुकर पवार, मो.: 8770218785

08 जुलाई 2024, भोपाल: मिट्टी परीक्षणका वर्षा जब कृषि सुखाने – हाल ही में एक राष्ट्रीय चैनल में प्रसारित खबर में बताया गया कि मध्यप्रदेश के 313 विकासखंडों में मिट्टी परीक्षण के लिये कुल 263 प्रयोगशालाएं हैं जिनमें से अधिकांश कर्मचारियों की कमी के कारण इनका उपयोग नहीं हो पा रहा है। इन प्रयोगशालाओं को स्थापित करने में करीब 150 करोड़ रूपये खर्च हुये हैं। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि प्रदेश में करीब 11 लाख 89 हजार मृदा स्वास्थ्य कार्ड बने हैं। भारत सरकार ने करीब साढ़े बारह लाख मिट्टी परीक्षण का लक्ष्य दिया था। इसकी तुलना में मात्र 5 लाख 58 हजार मिट्टी के नमूने एकत्रित किये गये तथा 2 लाख 84 हजार नमूनों की जांच की गई। यह रिपोर्ट आंख खोलने वाली है। मध्यप्रदेश में कुल किसानों की संख्या लगभग 1 करोड़ है। इसमें 1 हेक्टेयर तक जोत सीमा वाले सीमांत किसान 38 लाख 91 हजार हैं। वहीं लघु किसान जिनकी जोत सीमा 1 से 2 हेक्टेयर के बीच है, उनकी संख्या करीब 25 लाख है।

उपर्युक्त आंकड़ों से प्रतीत हो रहा है कि सरकार और किसान दोनों ही मिट्टी परीक्षण को लेकर संवेदनशील नहीं हैं। यह इस बात से भी समझा जा सकता है कि करीब एक करोड़ किसानों की संख्या पर मात्र 12 लाख के लगभग मिट्टी परीक्षण का लक्ष्य और लक्ष्य से आधे से भी कम नमूने एकत्रित करना तथा एकत्रित किये नमूनों में से करीब आधे नमूनों की जांच करना केवल औपचारिकता ही है। ऐसा लगता है कि सरकार के नुमाईंदे किसानों को मिट्टी परीक्षण कराने के फायदे बताने असफल रहे हैं या किसान मिट्टी की जांच नहीं करवाना चाहते। इससे इतर यह भी हो सकता है कि किसान मिट्टी की जांच करवाना तो चाहते हैं लेकिन जांच की रिपोर्ट समय पर नहीं मिलने से वे इसका उपयोग खेतों में नहीं कर पाते इसलिये वे मिट्टी की जांच करवाने में रूचि नहीं ले रहे हैं।

जिस तरह मनुष्य के खून और विभिन्न जांचों के जरिये पता चल जाता है कि शरीर में कौन से तत्वों की कमी है अथवा क्या-क्या बीमारी होने की आशंका है। इसी तरह मिट्टी की जांच से पता चल जाता है कि मिट्टी में कौन-कौन से पोषक तत्वों की कमी है। यदि किसानों को फसल लगाने से पहले यह पता चल जाये कि उसके खेत में कौन-कौन से पोषक तत्वों की कमी है तो वह उनकी पूर्ति के लिये जरूरी पोषक तत्व/खाद जमीन में डालेगा। जमीन में पोषक तत्वों की कमी का पता चलने और लगाई जाने वाली फसलों में कौन से पोषक तत्वों की जरूरत होती है, यह बात किसानों को पता चल जाये तो वे समय रहते फसल लगाने से पहले जमीन में उन तत्वों की कमी को पूरी कर देगा। इससे एक ओर जहां जमीन की उर्वरा शक्ति पर कोई विपरीत असर नहीं पड़ेगा वहीं दूसरी ओर उत्पादन में भी वृद्धि होगी। पौधों की समुचित वृद्धि एवं विकास के लिये कार्बन, हाइड्रोजन, आक्सीजन, नत्रजन, फास्फोरस, पोटाश, कैल्शियम, मैग्निशियम एवं सल्फर में से प्रथम तीन तत्वों को पौधे प्राय: वायु और पानी से प्राप्त करते हैं जबकि शेष पोषक तत्व भूमि से प्राप्त होते हैं। इन पोषक तत्वों को खेत में आवश्यकतानुसार उपयोग करने से ही अपेक्षित उत्पादन प्राप्त कर खेती को लाभ का धंधा बनाया जा सकता है। खेतों में उर्वरक डालने की सही मात्रा की जानकारी मिट्टी परीक्षण के बाद ही मिल सकती है। इसके अभाव में परम्परागत रूप से उर्वरकों के उपयोग से उत्पादन में वृद्धि के स्थान पर नुकसान होने की भी सम्भावना हो सकती है।

वस्तुस्थिति यह है कि मिट्टी परीक्षण के लाभ के बारे में किसानों को जितनी जानकारी होनी चाहिये, वह नहीं है। यही कारण है कि मिट्टी परीक्षण की प्रयोगशालाओं का बहुत कम उपयोग हो रहा है। इसी का दूसरा पक्ष यह भी है कि प्रयोगशालाओं में प्रशिक्षित कर्मचारियों की कमी के कारण मिट्टी के नमूनों की जांच रिपोर्ट समय पर नहीं मिलती। इस सम्बंध में शासन स्तर पर मिट्टी की जांच के लिये ठोस कदम उठाने की जरूरत है। किसानों को उपलब्ध कराये गये मृदा स्वास्थ्य कार्ड में किसानों से यह भी जानकारी लेनी चाहिये कि वह मिट्टी परीक्षण कराई गई जमीन पर कौन सी फसल लगा रहा है? सम्बंधित फसल के लिये कौन से पोषक तत्वों की जरूरत होगी? फसल में पोषक तत्वों की आवश्यकतानुसार जमीन में पोषक तत्वों की पूर्ति करने से निश्चित ही अपेक्षित उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है। मिट्टी परीक्षण कराने से लागत में भी कमी आने और अधिक उत्पादन होने से किसानों की आय में भी वृद्धि हो सकेगी। यदि ऐसा करने में सफल हो जाते हैं तो निश्चित ही खाद्यान्न में भी सभी जरूरी पोषक तत्व मौजूद रहेंगे जो हमारे स्वास्थ्य के लिये जरूरी होते हैं। और यह तभी सम्भ्व है 15-20 गावों के बीच एक मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला और सभी किसानों के लिये मिट्टी परीक्षण करवाना अनिवार्य हो।

जैसा कि मध्यप्रदेश के वित्त मंत्री ने बजट में उम्मीद जतायी है कि किसान उत्पादक संगठनों और शिक्षित युवाओं को मिट्टी परीक्षण के कार्य से जोड़ा जायेगा, उम्मीद की जानी चाहिये कि इन प्रयासों से शत प्रतिशत किसानों के मृदा स्वास्थ्य कार्ड बन जायेंगे। शत-प्रतिशत किसानों के खेतों की मिट्टी की जांच की जाएगी और उन्हें समय सीमा के भीतर जांच रिपोर्ट मिल जायेगी ताकि सम्बंधित किसान अपने खेतों में फसल लगाने अथवा बुवाई करने से पहले जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति कर सके।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

कृषक जगत ई-पेपर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.krishakjagat.org/kj_epaper/

कृषक जगत की अंग्रेजी वेबसाइट पर जाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

www.en.krishakjagat.org

Share
Advertisements