राज्य कृषि समाचार (State News)

छिंदवाड़ा में एच.डी.पी.एस.पद्धति से कपास की खेती पर कार्यक्रम आयोजित  

Share

18 जून 2024, छिंदवाड़ा: छिंदवाड़ा में एच.डी.पी.एस.पद्धति से कपास की खेती पर कार्यक्रम आयोजित – कलेक्टर पांढुर्णा श्री अजय देव शर्मा के मार्गदर्शन में मध्यप्रदेश में पहली बार सघन रोपण प्रणाली (एच.डी.पी.एस.) पद्धति से कपास की खेती को बढ़ावा देने के उद्देश्य से किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग, केन्द्रीय कपास अनुसंधान संस्थान नागपुर, सहयोगी संस्थान डब्ल्यू.डब्ल्यू.एफ. एवं सृजन एनजीओ द्वारा सघन रोपण प्राणाली (एच.डी.पी.एस.) पद्धति से कपास की खेती के संबंध में आज पांढुर्णा जिले के विकासखण्ड सौंसर के ग्राम मर्राम में कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

मुख्य अतिथि कलेक्टर पांढुर्णा श्री अजय देव शर्मा द्वारा क्लस्टर ग्राम डुकरोला, मर्राम एवं कराली के अनुसूचित जनजाति के चयनित कृषकों से एच.डी.पी.एस. पद्धति से सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ कृषि वैज्ञानिकों द्वारा बताये अनुसार कपास की खेती करने के लिये प्रोत्साहित किया, जिससे किसानों को प्रति  एकड़  अधिक उत्पादन होगा और कृषकों की आर्थिक स्थिति बेहतर होगी। वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक डॉ.रामाकृष्णा एवं केन्द्रीय कपास अनुसंधान संस्थान नागपुर डॉ.दीपक द्वारा कृषकों को एच.डी.पी.एस.पद्धति से कपास फसल उत्पादन के संबंध में विस्तारपूर्वक बताया गया। हल्की जमीन का चयन करते  हुए  कतार से कतार 90 सेन्टीमीटर एवं पौधे से पौधे की दूरी 15 सेन्टीमीटर के अंतराल पर फसल बोने के लिये कहा गया, जिसमें प्रति  एकड़ 6 पैकेट बीज से 29000 हजार पौधे लगाये जायेंगे और पौधों की बढ़वार को नियंत्रित करने के लिये 45 दिन की फसल अवस्‍था पर प्लांट ग्रोथरेगुलेटर चमत्कार का उपयोग करने की सलाह दी गई।

उप संचालक कृषि श्री जितेन्द्र कुमार सिंह द्वारा चयनित सभी 51 कृषकों को नवाचार के रूप में एच.डी.पी.एस. पद्धति से कपास की खेती के लिये प्रेरित किया गया, जिससे उन्हें डेढ़ से दो गुना अधिक उत्पादन प्राप्त हो सकेगा। डॉ.विजय पराडकर द्वारा वर्तमान में की जा रही कपास की खेती एवं एच.डी.पी.एस. पद्धति से कपास की खेती का तुलनात्मक विश्लेषण प्रस्तुत करते हुए कहा कि जिले की हल्की जमीन में एच.डी.पी.एस. पद्धति से कपास की खेती करना वरदान साबित होगा।

कलेक्टर पांढुर्णा श्री शर्मा, उप संचालक कृषि छिंदवाड़ा श्री सिंह, एसडीएम सौंसर एवं वरिष्ठ वैज्ञानिक सी.आई.सी.आर. द्वारा सभी चयनित 51 कृषकों को एच.डी.पी.एस. पद्धति से बोने के लिये उन्नत किस्मों के बीजों का निशुल्क वितरण किया गया। कार्यक्रम में अनुविभागीय कृषि अधिकारी सौंसर, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी, डब्ल्यू.डब्ल्यू.एफ. की सुश्री  प्रतीक्षा  मेहरा, सृजन संस्था के श्री संदीप भुजेल, श्री रजनीश विश्वकर्मा, श्री  विकास ओझा, श्री सचिन कुमार, ग्राम पंचायत सचिव एवं सभी कृषि अधिकारी उपस्थित थे।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements