राज्य कृषि समाचार (State News)

शाजापुर में जैविक उत्पाद की कार्यशाला आयोजित

Share

22 मई 2023, शाजापुर: शाजापुर में जैविक उत्पाद की कार्यशाला आयोजित – रसायन युक्त उर्वरकों एवं दवाईयों के प्रयोग के उपरांत पैदा हुई फसलों के स्थान पर व्यक्ति जैविक उत्पादों का उपयोग कर रोगों से दूर रहें। यह बात कलेक्टर श्री किशोर कन्याल ने गत दिनों शाजापुर मुख्यालय की पुरानी सब्जी मण्डी में जैविक खेती एवं उत्पादों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से संपन्न हुई कार्यशाला में कही।

कलेक्टर श्री कन्याल ने कहा कि केन्द्र एवं राज्य शासन जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत है। जैविक खेती को कम लागत से अधिक मुनाफा कमाने का साधन बनाया जा सकता है। प्रकृति ने हमें सब कुछ दिया है, उसका उपयोग कर हम जैविक खेती की ओर आगे बढ़े। वर्तमान में रासायनिक खादों एवं दवाईयों के अंधाधुंध उपयोग से कृषि की लागत बढ़ रही है, वही फसल उत्पादों में भी रासायनिक तत्व मिलते हैं, इसकी वजह से अनेक प्रकार के रोग हो सकते हैं। जैविक खेती से हम लोगों को रोगों से बचा सकते हैं। जैविक खेती को प्रोत्साहित करने के लिए किसानों द्वारा आज अपने उत्पादों के स्टॉल लगाए गए हैं। सभी लोग जैविक खेती को प्रोत्साहित करने के लिए किसानों से उनके उत्पादों को खरीदें और अन्य लोगों को भी प्रोत्साहित करें। देवास से आए आचार्य श्री विजय सोनी ने संबोधित करते हुए शरीर को निरोगी बनाने के लिए विभिन्न उपाय बताए। उन्होंने बताया कि किसानों को जैविक खेती के तरीके सिखाने के लिए वे तीन दिवसीय प्रशिक्षण भी देते हैं। इसमें कम लागत से अधिक उत्पादन का तरीका बताया जाता है। उन्होंने कहा कि जो भी किसान जैविक खेती को अपनाना चाहता है, उसे वे सहयोग करेंगे। उन्होंने अपना मोबाईल नंबर 9827210731, 9479400731 तथा 6265085179 देते हुए किसानों को संपर्क करने के लिए कहा। 

इस मौके पर पुलिस अधीक्षक श्री यशपाल सिंह, जिला पंचायत सीईओ श्री संतोष टैगोर,  अनुविभागीय अधिकारी श्री नरेन्द्र नाथ पाण्डेय, उपसंचालक उद्यानिकी श्री मनीष चौहान, श्री किरण ठाकुर, जैविक खेती करने वाले किसान श्री शरद भण्डावत, श्री जुझारसिंह परमार, श्री हरिसिंह ठाकुर, श्री मनोज कुमार नारोलिया, श्री सूरजसिंह परमार सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं जैविक उत्पाद करने वाले किसान और गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

कृषि विज्ञान केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. अम्बावतिया ने संबोधित करते हुए कहा कि हमारा शरीर बहुमूल्य है, इसे हम सस्ती प्रदुषित वस्तुओं से खराब नहीं करें। हमें जीवन में शुद्ध उत्पादों का प्रयोग करना चाहिये, ताकि हमारा शरीर स्वस्थ रहे। शुद्ध उत्पाद जैविक खेती से ही प्राप्त होंगे। उन्होंने खान-पान के तरीकों में बदलाव लाने के लिए कहा। उपसंचालक कृषि श्री केएस यादव ने कार्यशाला के उद्देश्य के बारे में बताते हुए कहा कि जैविक उत्पादों को लेकर 22 जनवरी 2023 से जैविक हॉट बाजार लगाया जा रहा है। किसान बड़ी मेहनत के साथ जैविक खेती कर रहे हैं। हम सभी को किसानों को प्रोत्साहित करना चाहिये।  कार्यक्रम का संचालन पटवारी श्री ललित कुंभकार ने किया।

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्राम )

Share
Advertisements