मध्य प्रदेश : बीज की कालाबाज़ारी, सरकार के संरक्षण में दोहरी लूट का शिकार हो रहे किसान

Share

23 जून 2021, भोपाल ।  मध्य प्रदेश : बीज की कालाबाज़ारी, सरकार के संरक्षण में दोहरी लूट का
शिकार हो रहे किसान – माकपा ने कहा है कि प्रदेश के किसानों के साथ भाजपा की शिवराज सरकार
द्वारा इससे भी बड़ा अन्याय यह हो रहा है कि सहकारी और सरकारी बीज केंद्रों
पर बीज उपलब्ध न होने से किसानों को इसे बाजार से खरीदना पड़ रहा है, जो
सरकारी दर से कई बार दोगुने से भी ज्यादा महंगा होता है।

मध्य प्रदेश के अधिकांश जिलों में मानसून ने दस्तक दे दी है और किसान खरीफ की फसल की
बोवनी के लिए जुटा हुआ है। तब सरकार की ओर से सरकारी और सहकारी बीज केंद्रों पर पर्याप्त
मात्रा में बीज उपलब्ध न करवा कर किसानों को निजी कंपनियों के मिलने वाले नकली बीजों से
लुटने के लिए छोड़ दिया गया है।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव जसविंदर सिंह ने प्रदेश में खरीफ के मौसम की प्रमुख
फसलों में हो रही कालाबाजारी का हवाला देते हुए कहा है कि कालाबाजारियों को सरकार के संरक्षण
से किसानों को तेहरी मार पड़ रही है। पहला तो यह है कि सरकार ने बीज पर मिलने वाली सब्सिडी
को बिना बढ़ाये बीज की दरों में वृद्धि की है। वैसे भी बीज खरीद समय किसानों को बीज की पूरी
कीमत चुकानी होती है, सब्सिडी उसके बाद ही किसान के खाते में पहुंचती है। प्रदेश में बोई जाने
वाली प्रमुख फसलों में सरकार ने सोयाबीन के बीज पर 850 रुपए प्रति क्विंटल, मूंगफली के बीज पर
500 रुपए क्विंटल, मूंग के बीज में 150 रुपए प्रति क्विंटल, अरहर के बीज में 250 रुपए प्रति क्विंटल
और तिल्ली के बीज में 50 रुपए प्रति क्विंटल की दर से वृद्धि की है।

माकपा ने कहा है कि प्रदेश के किसानों के साथ भाजपा की शिवराज सरकार द्वारा इससे भी बड़ा
अन्याय यह हो रहा है कि सहकारी और सरकारी बीज केंद्रों पर बीज उपलब्ध न होने से किसानों को
इसे बाजार से खरीदना पड़ रहा है, जो सरकारी दर से कई बार कई दोगुने से भी ज्यादा महंगा होता
है। उदाहरण के लिए सोयाबीन के बीज की कीमत सब्सिडी के बाद 55 रुपए प्रति किलो है, जबकि
बाजार में किसानों को 115 रुपए प्रति किलो की दर से खरीदना पड़ रहा है। इसी प्रकार धान के बीज
का सरकारी रेट 30 रुपए किलो है और निजी कंपनियां 75 रुपए किलो में बेच कर ढाई गुना से ज्यादा
वसूल रही हैं। बाजरे का बीज भी 264 रुपए की बजाय डेढ़ किलो का पैके ट 550 रुपए में मिल रहा
है। इसी तरह मक्का के बीज का मूल्य 89 रुपए किलो है और किसानों को बाजार में पांच किलो की
थैली 1000 रुपए यानी कि 200 रुपए किलो में खरीदना पड़ रहा है। तिल्ली के बीज की सरकारी दर
79 रुपए किलो है जबकि किसानों को 500 ग्राम की थैली 70 रुपए में मिल रही है, जिसका अर्थ है कि
तिल्ली का बीज 79 रुपए की तुलना में 140 रुपए प्रति किलो बिक रहा है। अरहर के बीज की सरकारी
दर 45.75 रुपए किलो है और किसानों को तीन किलो की थैली 540 रुपए के हिसाब से 180 रुपए
किलो तथा उड़द का बीज 49.50 रुपए की बजाय 200 रुपए किलो की दर से मिल रहा है।

जसविंदर सिंह ने कहा है कि किसानों के साथ होने वाली यह लूट सिर्फ बीज खरीदने तक ही सीमित
नहीं है, बल्कि निजी कंपनियों से मिजने वाले बीज को रासायनिक तरीके से संरक्षित न किए जाने के
कारण उसके अंकुरित होने या बाद में फल और फली लगने की कोई गारंटी नहीं होती है और निजी
खरीद केंद्र किसान को बीज खरीदते समय कोई रसीद भी नहीं देते हैं, जिससे नुकसान होने पर वे
कंपनी पर किसी प्रकार का दावा भी नहीं कर सकते हैं।

माकपा ने इस लूट को तुरंत रोकने और किसानों को पर्याप्त मात्रा में बीज उपलब्ध कराने की मांग की है। 

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.