राज्य कृषि समाचार (State News)

जबलपुर में बीज उत्पादक समिति की ग्रेडिंग यूनिट का किया निरीक्षण

Share

13 जून 2024, जबलपुर: जबलपुर में बीज उत्पादक समिति की ग्रेडिंग यूनिट का किया निरीक्षण – जबलपुर जिले में किसानों को गुणवत्तापूर्ण बीज एवं खाद की उपलब्धता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से कृषि विभाग के अधिकारियों ने गत दिनों  मुर्रई स्थित बीज उत्पादक समिति श्री नमामि सीड्स ग्रेडिंग यूनिट का निरीक्षण किया ।

निरीक्षण के दौरान उत्पादित बीज का संपूर्ण रिकॉर्ड देखा गया और पैक किये जा रहे बीज के सैंपल भी लिये गये । कृषि अधिकारियों ने बीज समिति  द्वारा किसानों के यहाँ लिये गये बीज उत्पादन कार्यक्रम एवं उत्पादित बीज की मात्रा और ग्रेडिंग के बाद पैकिंग हेतु तैयार मात्रा का मिलान भी किया । निरीक्षण में मध्यप्रदेश राज्य बीज प्रमाणीकरण संस्था द्वारा बीज उत्पादन कार्यक्रम में बीज परीक्षण में फेल किये गये लॉट की भी जानकारी ली गई और निर्देश दिये कि फेल लॉट का बीज किसी भी दशा में पैक कर किसानों को विक्रय नहीं किया जाये ।

कृषि अधिकारियों ने बताया कि श्री नमामि सीड्स ग्रेडिंग यूनिट मुर्रई समिति में 12 किसान पंजीकृत हैं ।इनके द्वारा जे आर 206 किस्म का 750 किवंटल एवं 900 किवंटल क्रांति का उत्पादन किया गया । जिसमें से जे आर 206 किस्म का 174 क्विंटल बीज राज्य बीज प्रमाणीकरण संस्था द्वारा निर्धारित मापदंड में न आने के कारण फेल किया गया है । निरीक्षण के दौरान फेल लॉट के संबंध में संतुष्टि पूर्वक जानकारी नहीं उपलब्ध कराने पर समिति को तीन दिन के भीतर सारी जानकारी जवाब के साथ प्रस्तुत करने नोटिस दिया गया है । नोटिस का जवाब संतुष्टि पूर्वक नहीं होने पर बीज अधिनियम एवं अति आवश्यक वस्तु अधिनियम के प्रावधानों के तहत कार्यवाही प्रस्तावित करने की चेतावनी भी दी समिति को दी गई है ।

कृषि विभाग के निरीक्षण दल में अनुविभागीय कृषि अधिकारी पाटन डॉ इंदिरा त्रिपाठी एवं वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी श्रीकांत यादव शामिल थे । डॉ त्रिपाठी ने बताया कि पाटन एवं शहपुरा में सभी साटेक्स एवं ग्रेडर की नियमित जाँच लगातार की जा रही है। उन्होंने किसानों से भी अपील की है कि बिना लाइसेंस के बीज का विक्रय किये जाने की कहीं से भी जानकारी मिलने पर तत्काल कृषि अधिकारियों को सूचित करें ताकि त्वरित कार्यवाही की जा सके।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements