राज्य कृषि समाचार (State News)

इंदौर संभागायुक्त ने की संभाग में चल रही सिंचाई परियोजनाओं की समीक्षा

Share

25 मई 2024, इंदौर: इंदौर संभागायुक्त ने की संभाग में चल रही सिंचाई परियोजनाओं की समीक्षा – संभागायुक्त श्री दीपक सिंह ने जल संसाधन विभाग को निर्देश दिए हैं कि यह सुनिश्चित करें कि नहरों से पानी अंतिम सिरे तक पहुँचे। अंतिम छोर के खेतों में भी पानी मिलना चाहिए। श्री दीपक सिंह ने कृषि, उद्यानिकी, जल संसाधन और नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के साथ-साथ कृषि विश्वविद्यालय की एक संयुक्त बैठक रखने के निर्देश भी दिए, ताकि सिंचाई के पानी का बेहतर उपयोग संभव हो सके। संभागायुक्त ने कहा कि अध्ययन में यह पाया गया है कि खेतों में खुली नालियों से सिंचाई का पानी पहुँचने पर अपव्यय भी होता है, जबकि स्प्रिंक्लर से बेहतर सिंचाई संभव होती है। शासन की मंशा भी मोर क्रॉप वन ड्रॉप की है। इसके लिए जल संसाधन विभाग एक नीति और योजना बनाकर कार्य करें। बैठक में उपायुक्त राजस्व सुश्री जानकी यादव, मुख्य अभियंता नर्मदा ताप्ती कछार इंदौर श्री देवड़ा सहित संभाग के सभी ज़िलों से आये कार्यपालन यंत्री उपस्थित थे।

      बैठक में मुख्य अभियंता ने बताया कि संभाग में नर्मदा ताप्ती कछार के अंतर्गत तीन वृहद परियोजनाएं पूर्ण है। इनमें माही परियोजना का मुख्य बाँध एवं उपबांध झाबुआ ज़िले में स्थित है तथा भगवंत सागर परियोजना खंडवा ज़िले में बनी है। इन तीनों परियोजनाओं से 41 हजार 527 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होती है। साथ ही यहां के 162 गांवों के किसान लाभान्वित होते हैं। संभाग में तीन मध्यम सिंचाई परियोजनाएं है, जिससे  20 हजार 653 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होती है और इनसे 93 गांवों के किसान लाभान्वित होते हैं। इनमें इंदौर ज़िले में चोरल बाँध, खरगोन ज़िले में देजला देवड़ा परियोजना और खंडवा ज़िले में हाल में निर्मित आंवलिया मध्यम परियोजना शामिल है। इसमें आंवलिया मध्यम परियोजना 165 करोड़ रुपये की लागत से पूर्ण की गई है।

 जानकारी  दी गई  कि  संभाग में 1251 लघु परियोजनाएं पूर्ण हैं। इनसे 2 लाख 38 हजार 276 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होती है। इन परियोजनाओं से इंदौर में 67, धार में 155, मनावर क्षेत्र में 174, झाबुआ जिले में 242, अलीराजपुर में 147, खरगोन में 176, बड़वानी में 147, बुरहानपुर में 69 और खंडवा जिले में 51 परियोजनाएं हैं। बैठक में बताया गया कि संभाग में पाँच मध्यम परियोजनाएं निर्माणाधीन हैं और इनका कार्य चल रहा हैं। इनमें धार जिले में बरखेड़ा और कारम परियोजना, खंडवा जिले में भाम, बुरहानपुर जिले में भावसा परियोजना और पांगरी परियोजना शामिल हैं। इनके बनने के बाद 41 हजार 550 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी।  संभाग में 61 लघु सिंचाई परियोजनाएं भी निर्माणाधीन हैं, जिनका कार्य अभी प्रगति में है। इनकी कुल लागत 37 हजार 238 लाख रुपये हैं और इनसे कुल 21 हजार 428 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी।

    बैठक में  बताया गया कि खंडवा जिले में ताप्ती चिल्लुर वृहद परियोजना स्वीकृति प्राप्त परियोजना है। इसके बन जाने से 81 हजार 600 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होंगी, परंतु अभी इसका कार्य प्रारंभ नहीं हुआ है। वही बुरहानपुर जिले में छोटी उतावली मध्यम परियोजना है, जिससे 4 हज़ार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी । साथ ही बुरहानपुर शहर में जल स्तर में भी सुधार होगा। इसकी लागत 13 हजार 700 लाख रुपये है। संभाग में 113 लघु परियोजनाएं निर्माणाधीन है जिनके बनने से 36 हजार 850 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई संभव होगी।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements