छत्तीसगढ़ की 69 निजी कृषि मंडियों में भार साधक समितियां 

Share

6 जून 2022, रायपुर: छत्तीसगढ़ की 69 निजी कृषि मंडियों में भार साधक समितियां – छत्तीसगढ़ की  कृषि उपज मंडियों को किसानों के हितों के संरक्षण के लिए ज्यादा प्रभावी बनाने के उद्देश्य भार साधक समितियों की नियुक्ति का आदेश जारी किया गया है। इससे कृषि उपज मंडियों के कामकाज में पादर्शिता और तेजी आएगी। किसानों के हित में नवनियुक्त भार साधक समितियां तेजी से प्रभावी निर्णय ले सकेंगी। यहां यह उल्लेखनीय है कि राज्य की कृषि उपज मंडियों में 2011 से भार साधक समितियां का गठन/मनोनयन नहीं हो सका था। मंडियों के संचालन की जिम्मेदारी भार साधक अधिकारी के जिम्मे थी, जिसके चलते कृषि मंडियों में विकास एवं किसानों के हित के निर्णय में विलंब होता था। भार साधक समितियों की नियुक्ति हो जाने से अब किसानों के हित में तेजी से प्रभावी निर्णय लेने में मदद मिलेगी। भार साधक समितियों में सभी वर्गाें के प्रतिनिधियों को शामिल किया गया है, ताकि किसान और व्यापारी बिना किसी संकोच के अपनी बातें भार साधक समिति के पदाधिकारियों से मिलकर रख सके। 

भार साधक समितियां कृषि उपज मंडी की नियंत्रण प्राधिकारी के रूप में कार्याें का संचालन करने के साथ ही मंडी फंड का उपयोग एवं मंडी क्षेत्र में सुविधाएं विकसित करने का निर्णय ले सकेंगी। किसानों को उनके द्वारा बेची गई उपज का समय पर भुगतान सुनिश्चित हो, इसकी मॉनिटरिंग भी भार साधक समिति के पदाधिकारी करेंगे। प्रत्येक कृषि मंडी के भार साधक समिति में एक अध्यक्ष, एक उपाध्यक्ष तथा 5 सदस्यों समेत कुल 07 सदस्यों की नियुक्ति की गई है। संचालक, कृषि विपणन, रायपुर द्वारा इन भार साधक समितियों की नियुक्ति के आदेश जारी कर दिए गए हैं।

महत्वपूर्ण खबर: राजफैड की क्रेडिट लिमिट 2 हजार करोड़ रूपये बढ़ेगी

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.