हरियाणा सरकार किसान के हित के लिए कोई भी पहल करने के लिए हमेशा तैयार- कृषि मंत्री

Share

परपरांगत, जैविक व प्राकृतिक खेती पर किया जा रहा फोकस-दलाल

9 मई 2022, चण्डीगढ़ । हरियाणा सरकार किसान के हित के लिए कोई भी पहल करने के लिए हमेशा तैयार- कृषि मंत्री हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री जे.पी. दलाल ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार किसान के हित के लिए कोई भी पहल करने के लिए हमेशा तैयार रहती है और किसान के हितों को सर्वोपरि मानते हुए सरकार अति-सक्रियता से लगातार कार्य कर रही है जिसके तहत परपरांगत, जैविक व प्राकृतिक खेती पर फोकस किया जा रहा है।

श्री दलाल आज यहां चण्डीगढ में ‘‘सतत कृषि के लिए एग्रोकैमीकल की भूमिका-खुशहाल भारत के लिए किसानों का सशक्तिकरण’’ विषय पर आयोजित तीसरी राष्ट्रीय संगोष्ठी में उपस्थित किसानों, कृषि से जुड़े बुद्धिजीवियों व अन्य महानुभवों को संबोधित कर रहे थे।

संगोष्ठी के दौरान उन्होंने कहा कि फसलों में उपयोग होने वाली खाद व उवर्रकों के नकली उत्पादों की बिक्री घोर अपराध हैं और हमारी सरकार इस अपराध पर नकेल कसने के लिए सख्त कार्यवाही करते हुए पारदर्शी तरीके से अच्छे व बेहतरीन खाद व उवर्रकों को बेचने के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने कहा कि किसानों को लूटने वाले लोगों को किसी भी प्रकार से माफ नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार फसलों में उपयोग होने वाले अच्छे व बेहतरीन खाद व उर्वरकों को तय मात्रा के अनुसार प्रयोग करने के लिए हर संभव सहयोग करने के लिए तैयार हैं क्योंकि सरकार का मंतव्य कृषि को बढावा देकर किसानों की आय को बढाना है।

कृषि मंत्री ने कहा कि वे परपरांगत, जैविक व प्राकृतिक खेती पर बल देने में विश्वास रखते हैं और अधिक कैमीकल के प्रयोग होने की वजह से फल, सब्जी, धान, चावल इत्यादि की फसलें हमारी विदेशों में खारिज कर दी जाती है इसलिए किसान भाईयों को अपनी फसलों में तय मात्रा के अनुसार उर्वरकों व खाद का प्रयोग करना चाहिए और नकली खाद व उर्वरकों को प्रयोग बिल्कुल नहीं करना चाहिए। उन्होंने किसान भाईयों से अपील करते हुए कहा कि जब भी वे अपने खेतों के लिए खाद व उर्वरकों को खरीदें तो उसका बिल अवश्य लें, बिल न मिलने पर नकली सामान होने की आशंका रहती हैं।

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने हरियाणा में सुक्ष्म सिंचाई को बढावा दिया हैं और इसी कड़ी में माइक्रो सिंचाई में 85 प्रतिशत तक उपकरणों में छूट दी जा रही हैं। इसके अलावा, इस वर्ष कृषि का बजट भी लगभग 27 प्रतिशत तक बढाया गया है । उन्होंने बताया कि गन्नौैर में एशिया की सबसे बड़ी मंडी को खोला जाएगा जिस पर 10 हजार करोड़ रूपए का खर्च आएगा और यह मण्डी दिल्ली की आजादपुर मण्डी से भी बड़ी होगी। इसी प्रकार, पिंजौर में सेब मण्डी, गुरूग्राम में फूलों की मण्डी, सोनीपत में मसाला मण्डी को खोलने की कवायद जारी है। उन्होंने कहा कि किसानों के हित ज्यादा से ज्यादा सुरक्षित रहें, उसके तहत हरियाणा में 14 फसलों को खरीदा जा रहा है।  

श्री दलाल ने कहा कि देश में जब कोरोना संक्रमण बढ़ा तो अन्य क्षेत्रों के मुकाबले कृषि क्षेत्र में लाभ हुआ और इस दौरान चार लाख करोड़ से अधिक की खाद्य सामग्री का निर्यात भारत द्वारा किया गया। उन्होंने कहा कि बेशक चीन, रूस, अमेरिका की धरती भारत से अधिक है परंतु भारत की धरती अधिक फसल देने वाली व उपजाऊ हैं क्योंकि हमारे यहां मौसम विभिन्न फसलों के अनुसार हर समय अच्छा रहता हैं और हमें उसी के अनुरूप अपनी उपज का उत्पादन बढाना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम दुनिया का पेट भरने के लिए सक्षम है।

इसके अलावा, हरियाणा के किसान धान का उत्पादन अधिक कर रहे है जबकि हमारे यहां पर पानी कम हैं और धान में पानी की मात्रा अधिक प्रयोग होती है इसलिए वर्तमान सरकार ने फसल विविधिकरण पर भी बल दिया हैं और किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए विभिन्न योजनाओं को संचालित भी किया है। उन्होंने कहा कि किसान की भलाई होगी तो देश की भलाई होगी और देश की विकास की रफतार तेजी से आगे बढेगी।

कार्यक्रम के दौरान परिजात इण्डस्ट्रीज प्रा. लि. के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री केशव आनंद ने बुके देकर कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री जे. पी. दलाल का स्वागत किया और प्रसिद्ध व वयोबृद्ध किसान नेता श्री भगवान दास ने कृषि मंत्री को शॉल ओढाकर सम्मानित भी किया।

कृषि मंत्री ने कृषि में उपयोग होने वाले ड्रोन देखा व ली जानकारी- कार्यक्रम में कृषि मंत्री ने कृषि में उपयोग होने वाले ड्रोन को भी देखा और उनके बारे में जानकारी हासिल की।

कृषि मंत्री ने ‘‘जागो किसान जागो’’ अभियान के तहत पांच मोबाइल गाडियों को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना
 
इस कार्यक्रम के उपरांत श्री दलाल ने ‘‘जागो किसान जागो’’ अभियान के तहत पांच मोबाइल गाडियों को हरी झण्डी दिखाकर हरियाणा के विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों को जागरूक व शिक्षित करने के लिए रवाना भी किया।

इससे पहले, परिजात इण्डस्ट्रीज प्रा. लि. के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री केशव आनंद, पंजाब कृषि विश्वविद्यालय के पूर्व वाईस चांसलर प्रो. एम.एस. कंग, धानुका ग्रुप के चेयरमैन श्री आर जी अग्रवाल, भारत सरकार के सीआईबी-आरसी के चेयरमैन व पूर्व कृषि एवं बागवानी कमिश्नर डॉ. एस के मल्होत्रा, यूपीएल के सीएमडी पदमभूषण श्री रज्जू श्राफ और इंडियन कैमीकल काऊंसिल के नार्थन रिजन के चेयरमैन श्री राजेश श्रीवास्तव ने भी उपस्थितजनों को संबोधित किया।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.