राज्य कृषि समाचार (State News)

पर्याप्त वर्षा होने पर ही खरीफ फसलों की बोवनी करें किसान – उप संचालक कृषि रतलाम

Share

13 जून 2024, रतलाम: पर्याप्त वर्षा होने पर ही खरीफ फसलों की बोवनी करें किसान – उप संचालक कृषि रतलाम – उप संचालक, (कृषि ) रतलाम ने किसानों को सलाह दी है कि मानसून के आगमन पश्चात कल्टीवेटर एवं पाटा चलाकर खेत को बोनी योग्य तैयार करें। सोयाबीन की बोवनी के लिये उपयुक्त समय मानसून के आगमन के पश्चात न्यूनतम 100 मि.ली. (4 इंच) वर्षा होने पर ही सोयाबीन की बोवनी करें, जिससे उगी हुई फसल को सूखा, कम नमी के कारण किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं हो।

सोयाबीन की 02-03 नोटिफाईड किस्मों का चयन कर बीज की व्यवस्था कर लेवें।उप संचालक, किसान कल्याण तथा कृषि विकास ने किसानों को सलाह दी जाती है कि सोयाबीन बोनी 45 से.मी. कतारो में करें, बीज की गहराई 02-03 से.मी. की गहराई पर बोनी करें पौधे से पौधे की दूरी 05-10 से.मी. रखे। सोयाबीन का बीज दर 60-70 किग्रा./हेक्टेयर की दर से उपयोग करें । सोयाबीन फसल के लिये संतुलित मात्रा में उर्वरकों (खाद) का उपयोग करना चाहिये (25:60:40: कि.ग्रा./हेक्टेयर) नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटाश व सल्फर) की पूर्ति केवल बोनी के समय करें।

विगत कुछ वर्षों में फसल मे सूखा, अतिवृष्टि या असामयिक वर्षा जैसी  घटनाएं  देखी जा रही है। ऐसी विपरीत  परिस्थितियों में फसल को बचाने हेतु किसान , सोयाबीन बोवनी के लिये  चौड़ी  क्यारी पद्धति या रिजफरो पद्धति का चयन कर सोयाबीन फसल की बोवनी  करें । सोयाबीन बीज को फफूंदनाशक कीटनाशक एवं राईजोबियम से बीज को उपचारित कर बोनी करें।

(कृषक जगत अखबार की सदस्यता लेने के लिए यहां क्लिक करें – घर बैठे विस्तृत कृषि पद्धतियों और नई तकनीक के बारे में पढ़ें)

(नवीनतम कृषि समाचार और अपडेट के लिए आप अपने मनपसंद प्लेटफॉर्म पे कृषक जगत से जुड़े – गूगल न्यूज़,  टेलीग्रामव्हाट्सएप्प)

Share
Advertisements