Share

कृषि विश्वविद्यालय में तीन दिवसीय कृषक मेला

ग्वालियर। प्रतिस्पर्धा के दौर में रासायनिक खादों के प्रयोग ने हमारा उत्पादन तो बढ़ाया है मगर इस तरह की बीमारियों के कारण भी पैदा किए हैं। ऐसे में आज जरुरत है कि किसान हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिरहित जैविक कृषि को अपनाएं एवं जैविक फसलों को उगाकर रोगमुक्ति का अभियान छेड़ें। कृषि उद्यमों द्वारा कृषकों के सशक्तिकरण पर केन्द्रित पश्चिम क्षेत्रीय कृषि मेला कृषि विजय 2020 के शुभारंभ अवसर पर यह बात कृषि मंत्री श्री सचिन यादव ने कही। अध्यक्षता करते हुए पशुपालन मंत्री श्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि मध्यप्रदेश को लगातार कृषि कर्मण अवार्ड मिल रहा है। इसमें किसानों एवं कृषि वैज्ञानिकों का मुख्य योगदान है। कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एस. के. राव ने तीन दिवसीय कृषि मेले के बारे में विस्तार से जानकारी दी।
इस अवसर पर संचालन डॉ. वाय. डी. मिश्रा ने किया एवं आभार निदेशक विस्तार सेवाएं डॉ. एस. एन. उपाध्याय ने जताया। कृषि मेले में उपस्थित हुए प्रमंडल सदस्य एवं ग्वालियर पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल एवं जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मनीष भुजबल सिंह ने कृषि विज्ञान केन्द्रों के स्टॉलों एवं राजविजय फुलवारी का अवलोकन किया। इस अवसर पर पूर्व कुलपति डॉ. विजय सिंह तोमर, निदेशक अनुसंधान डॉ. एम. पी. जैन, निदेशक शिक्षण डॉ. ए. के. सिंह, कुलसचिव डी. एल. कोरी सहित शिक्षकगण, वैज्ञानिकगण, किसान व छात्र छात्राएं मौजूद थेे।

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *