हर किसान को फसल क्षति का मुआवजा दिलाया जाएगा-कृषि मंत्री श्री पटेल

Share

21 जनवरी 2022, हरदा ।  हर किसान को फसल क्षति का मुआवजा दिलाया जाएगा-कृषि मंत्री श्री पटेल – प्रदेश के किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने कहा है कि गत दिनों ओला पाला से प्रभावित फसलों का मुआवजा प्रत्येक किसान को उसकी पात्रता अनुसार दिलाया जाएगा। किसी भी अपात्र व्यक्ति को मुआवजा न मिले, यह अधिकारी सुनिश्चित करें। मंत्री श्री पटेल ने सर्किट हाउस हरदा में मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा करते हुए कहा कि किसानों को राजस्व पुस्तक परिपत्र के संशोधित प्रावधानों के तहत फसल क्षति अनुसार मुआवजा दिलाने के लिये राजस्व और कृषि विभाग के अधिकारी कर्मचारी सर्वे कर चुके है तथा सर्वे में फसल क्षति के आधार पर किसानों के खातों में राहत की राशि अगले कुछ दिनों में जमा कराई जाएगी। कृषि मंत्री श्री पटेल ने इस अवसर पर कहा कि प्राकृतिक आपदा से फसल क्षति केवल किसान की क्षति नहीं है बल्कि राष्ट्र की क्षति है इसलिये किसानों को हर संभव मदद दिलाई जाएगी। उन्होने कहा कि राजस्व पुस्तक परिपत्र के तहत राहत राशि के अलावा फसल बीमा योजना के तहत भी किसानों को बीमा कम्पनी से फसल बीमा की राशि यथा शीघ्र दिलाने के प्रयास किये जा रहे है। कृषि मंत्री श्री पटेल ने कहा कि पहले वन ग्रामों के किसानों की फसल का बीमा नहीं होता था लेकिन प्रदेश सरकार ने अब वन ग्राम के किसानों की फसल का भी बीमा कराया है।

2 तहसीलों के 51 ग्रामों में हुई प्राकृतिक आपदा से क्षति

कृषि मंत्री श्री पटेल ने मीडिया प्रतिनिधियों को बताया कि फसल सर्वे के बाद प्राप्त जानकारी अनुसार जिले की 2 तहसीलों के 51 ग्रामों की फसल गत दिनों ओला वृष्टि से क्षतिग्रस्त हुई है। इसमें रहटगांव तहसील के 31 गांव व हरदा तहसील के 20 गांव शामिल है। प्रभावित फसल में गेहूँ व चना की फसल शामिल है। उन्होने बताया कि रहटगांव तहसील के कुल 3597 किसानों के खेतों में 6506.07 हेक्टेयर क्षेत्र में फसल प्रभावित हुई है जबकि हरदा तहसील के कुल 3785 किसानों के खेतों में 7616 हेक्टेयर क्षेत्र में फसल प्रभावित हुई है। इस तरह कुल 51 ग्रामों के 7382 किसानों के खेतों में 14124.1 हेक्टेयर फसल ओला वृष्टि से प्रभावित हुई है।

महत्वपूर्ण खबर:  मध्यप्रदेश में ओला-पाला से 25 जिलों की फसलें प्रभावित

Share
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.