ड्रैगन फ्रूट ने जमाई धाकड़ की धाक

व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें

23 सितंबर 2020, इंदौर। ड्रैगन फ्रूट ने जमाई धाकड़ की धाकजब भी कोई बड़ा लक्ष्य लेकर नए प्रयोग किए जाते हैं, तो शुरुआत में तकलीफें आती है , लेकिन बाद में नतीजे सकारात्मक मिलते हैं. ऐसा ही कुछ हुआ मूलतः म.प्र. के नीमच जिले की जावद तहसील के ग्राम हनुमंतिया के निवासी प्रगतिशील कृषक श्री डाडमचन्द धाकड़ के साथ. उन्होंने तीन साल पहले सबसे हटकर ड्रैगन फ्रूट की खेती राजस्थान में लीज पर ज़मीन लेकर करना शुरू की.जिसके परिणाम उत्साहवर्धक रहे हैं.ड्रैगन फ्रूट की खेती का रकबा धीरे -धीरे बढ़ाया जा रहा है.

महत्वपूर्ण खबर : धान और मोटा अनाज खरीदी के लिए 15 अक्टूबर तक किसान करवा सकते हैं पंजीयन

श्री डाडमचन्द धाकड़ ने कृषक जगत को बताया कि वे विशिष्ट तरीके की ऐसी उद्यानिकी फसल लेना चाहते थे जो औषधीय गुणों से भरपूर हो, आमदनी भी अच्छी दे और इसका आसपास कोई उत्पादन न लेता हो.अंततः उन्होंने वियतनाम ,थाईलैंड और मलेशिया में पैदा होने वाले कैक्टस प्रजाति के फल ड्रैगन फ्रूट लगाने का निर्णय लिया.आरम्भ में बीज कोलकाता से मंगाया था जिसे अपने गांव के खेत में 10-15 पौधे प्रयोग के तौर पर लगाए थे , लेकिन जलवायु सही नहीं होने से अपेक्षित परिणाम नहीं मिले, तो राजस्थान का रुख किया और उदयपुर के पास डबोक नामक गांव में 2017 में 40 साल के लिए लीज पर ज़मीन लेकर एक हैक्टेयर में ड्रैगन फ्रूट लगाया क्योंकि यह 40 साल तक फसल देता है .राजस्थान का चयन इसलिए किया क्योंकि वहां बारिश कम होती है और ज़मीन में पानी ज़्यादा देर तक ठहरता है.तीन साल बाद तरक्की के दरवाज़े खुल गए. फ़िलहाल डेढ़ एकड़ में ड्रैगन फ्रूट के 1600 पौधे लगाए हैं .जिसमे 4 -5 लाख रु. की लागत आ चुकी है. एक पौधे से 5 -7 किलो उत्पादन मिलता है , एक ही पौधा 6 -7 साल तक फल देता है.फल का वजन 250 ग्राम से लेकर 700 ग्राम तक रहता है.अभी ड्रैगन फ्रूट 350 रु. किलो बिक रहा है .धीरे -धीरे इसका रकबा बढाकर 5 एकड़ तक करने का विचार है.श्री धाकड़ ने कहा कि ड्रैगन फ्रूट चिकना और स्वाद में मीठा और स्वास्थ्यवर्धक है.श्री धाकड़ ड्रैगन फ्रूट की फसल के बीच में इंटर क्रॉपिंग में चिया बीज और किनोवा की भी खेती करते हैं.

गुणों की खान ड्रैगन फ्रूट : श्री धाकड़ ने बताया कि बेहद स्वादिष्ट और सेहत के लिए फायदेमंद ड्रैगन फ्रूट में कई गुणकारी पोषक तत्व पाए जाते हैं.इसमें एंटीऑक्सीडेंट बहुत पाया जाता है.यह इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है .यह वजन घटाने में तो सहायक होता ही है, एजिंग की समस्या को भी कम करता है.इसका उपयोग त्वचा ,बाल और स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है.यह दिल की धमनियों की कठोरता को कम करके दिल का दौरा पड़ने के खतरे को कम करता है.जोड़ों के दर्द में भी यह लाभप्रद रहता है. मधुमेह (डायबिटीज ) में भी लाभकारी है.यह रक्त में शुगर की मात्रा नियंत्रित करने में मदद करता है .इसमें एंटीऑक्सीडेंट के अलावा विटामिन सी , बेटासानिन,फ्लेवोनोइड, फेनोलिक एसिड , एस्कार्बिक एसिड और फायबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है.यह कैंसर की कोशिकाओं से लड़कर हमें बचाता भी है.इसमें मौजूद लाइकोपिन स्तन कैंसर से बचाने में सहयक होता है.यह हीमोग्लोबिन भी बढ़ाता है .यह गर्भवती महिलाओं के लिए भी लाभकारी होता है.

  • संपर्क नंबर – 9131262558
व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर करने के लिए नीचे क्लिक करें
Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 3 =

Open chat
1
आपको यह खबर अपने किसान मित्रों के साथ साझा करनी चाहिए। ऊपर दिए गए 'शेयर' बटन पर क्लिक करें।